लोहरदगा, जासं। लोहरदगा जिले में विगत 23 जनवरी को सीएए के समर्थन में निकाले गए जुलूस पर हिंसक वारदात की घटना के बाद लगाए गए कर्फ्यू को 15वें दिन पूरी तरह से समाप्त कर दिया गया। जिला प्रशासन ने वर्तमान स्थिति की समीक्षा एवं प्रखंडों से प्राप्त विधि व्यवस्था प्रतिवेदन एवं विभिन्न स्तरों पर प्राप्त अधिसूचना संग्रहण के उपरांत यह निष्कर्ष निकाला कि जिले में वर्तमान में शांति व्यवस्था की स्थिति स्थापित है। इसके बाद 6 फरवरी से सुबह 5:00 बजे से लेकर संपूर्ण क्षेत्र से कर्फ्यू हटा लिया जा रहा है।

23 जनवरी 2020 की इस घटना के बाद कुछ बिंदुओं पर जरूरी निर्देश दिए गए हैं। इसके तहत जिले में 144 की धारा जारी रहेगी। इस दौरान किसी भी स्थल पर 4 या 4 से अधिक लोग एकत्रित नहीं होंगे। कोई भी व्यक्ति बिना पूर्व अनुमति के न तो कोई सभा करेगा और न ही जुलूस निकाल सकेगा। साथ ही धार्मिक जातीय एवं भाषाई समुदाय के बीच मतभेद बनाने वाला कार्य नहीं करेगा। कोई व्यक्ति किसी प्रकार की अफवाह नहीं फैलाएगा। शांति व्यवस्था को भंग करने वाले संदेशों का आदान-प्रदान नहीं करेगा।

किसी भी माध्यम से उत्तेजक भाषण का संप्रेषण नहीं किया जाएगा। कोई भी व्यक्ति ध्वनि विस्तारक यंत्र का प्रयोग नहीं करेगा। कोई भी व्यक्ति किसी प्रकार का विस्फोटक पदार्थ लेकर नहीं चलेगा और न ही किसी व्यक्ति को ऐसा करने के लिए प्रोत्साहित करेगा। अस्त्र-शस्त्र का आदेश सिख समुदाय के व्यक्तियों और लाठी लेकर चलने वाले वृद्ध व्यक्तियों पर लागू नहीं होगा। कोई व्यक्ति सोशल मीडिया पर आपत्तिजनक टिप्पणी नहीं करेगा, न ही दूसरों को ऐसा करने के लिए प्रोत्साहित करेगा।

Posted By: Sujeet Kumar Suman

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस