रांची, जासं। पंडरा के व्यवसायी आशीष गुप्ता से 20 लाख की रंगदारी मागने वाले अपराधी राम सिंह उर्फ रितेश वर्मा, उर्फ रितेश सिंह राजपुत, उर्फ देवकुमार, उर्फ अजय सिंह और राजेश तिर्की को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। दोनों पंडरा ओपी क्षेत्र के आनंद नगर के हरने वाले हैं। पकड़े जाने के बाद पंडरा ओपी के हाजत से राम सिंह फरार हो गया था। खदेड़कर उसे पकड़ा गया, भागने में उसे गंभीर रूप से चोट भी लगी है। उसे पकड़ने के बाद इलाज के लिए रिम्स में भर्ती कराया गया है। फिलहाल पुलिस अभिरक्षा में इलाजरत है।

राम सिंह के दो गुर्गो को कोतवाली पुलिस ने पूर्व में ही जेल भेज दिया था। जेल भेजे गए आरोपितों में सेराज अहमद और आकाश कुमार उर्फ पाठक शामिल हैं। दोनों ने राम सिंह के कहने पर अपर बाजार के दवा कारोबारी प्रदीप कुमार जैन से लूटपाट की थी। पहले ब्लेड से काटा हाथ, फिर भागा : पकड़े जाने से पहले ही राम सिंह ने अपने पॉकेट में ब्लेड रखा था। पहले हाथ की नस काट ली। इसके बाद बोला बाथरूम जाना है। बाथरूम ले जाने पर वहां लगी वेंटिलेशन को काट दिया।

इसके बाद भाग निकला। पुलिस को शक होते ही उसके पीछे भागी। कई पुलिसकर्मी उसके पीछे भागते रहे। काफी दूर जाने के बाद उसे खदेड़कर पकड़ लिया गया। खदेड़ने के दौरान कई बार राम सिंह गिरा। इससे कई जगहों पर चोट लगी है। फिलहाल वह रिम्स में इलाजरत है।

टीपीसी के नाम पर मांगी थी रंगदारी : पंडरा के व्यवसायी आशीष गुप्ता से बीते 24 फरवरी को फोन कर उग्रवादी संगठन टीपीसी (तृतीय प्रस्तुती कमेटी)के नाम पर 20 लाख रुपये की रंगदारी मागी गई थी। रंगदारी मागने वाले ने व्यवसायी को धमकी दी थी कि तीन दिनों के भीतर उन्हें पैसा नहीं दिया गया तो वे उन्हें जान से मार देंगे। इसके बाद व्यवसायी ने पंडरा ओपी में प्राथमिकी दर्ज करायी थी। पुलिस की जांच में अपराधी राम सिंह द्वारा रंगदारी मांगने की बात सामने आई थी।

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप