रांची, राज्य ब्यूरो। Coronavirus Jharkhand News Update कोरोना वायरस के खतरे से बचाव के लिए अब राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) ने भी मोर्चा संभाल लिया है। रांची के आइसोलेशन सेंटर रिम्स व क्वारंटाइन सेंटर खेलगांव में एनडीआरएफ की एक-एक टीम को तैनात कर दिया गया है। क्वारंटाइन सेंटर में तैनात जवानों के साथ वहां रखे गए संदिग्धों ने गलत व्यवहार किया था। यहां तक कि वहां के डॉक्टरों व नर्सों के साथ भी गलत व्यवहार किया गया। पुलिस के जवान ऐसी स्थिति से निपटने के लिए पूरी तरह से न तो प्रशिक्षित थे, न ही उनके पास पर्याप्त उपकरण ही था। इसलिए एनडीआरएफ से मदद लेनी पड़ी। एनडीआरएफ के जवान अपने सभी उपकरणों के साथ दोनों ही सेंटर में अपनी सेवा दे रहे हैं। उनके सहयोग के लिए जिला बल के जवान को तैनात किया गया है। इसके बावजूद अगर एनडीआरएफ के जवानों की और आवश्यकता हुई, तो उसके लिए भी अतिरिक्त टीम तैयार है।

एक दिन पूर्व ही झारखंड सरकार के आपदा प्रबंधन विभाग ने राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) से सहयोग मांगा था। आपदा प्रबंधन प्रभाग के संयुक्त सचिव मनीष तिवारी ने गुरुवार को एनडीआरएफ के पटना के बिहटा स्थित 9वीं बटालियन के समादेष्टा को पत्र लिखकर बल देने का अनुरोध किया था। उन्होंने अपने पत्र में लिखा था कि कोरोना वायरस का संक्रमण पूरे देश में फैल गया है। इसमें लगातार वृद्धि हो रही है। इससे झारखंड भी अछूता नहीं है।

यहां रांची जिले के अधीन खेलगांव स्थित मेगा स्पोट्र्स कांप्लेक्स, मैकहिल सेंटर प्राइवेट लिमिटेड, रिंग रोड स्थित दलादली चौक, सर्ड हेहल, सरला-बिरला स्कूल पुरुलिया रोड को क्वारंटाइन सेंटर बनाया गया है। वहीं, आइसोलेशन सेंटर के रूप में रिम्स के अलावा पारस एचईसी अस्पताल, कलावती अस्पताल सिदरौल आदि शामिल हैं। रांची में भी एक संक्रमित मरीज पाया गया है। इस घटना के आलोक में ही कोरोना वायरस से बचाव व रोकथाम के लिए क्वारंटाइन सेंटर खेलगांव व आइसोलेशन सेंटर रिम्स में एनडीआरएफ के सहयोग की आवश्यकता महसूस की जा रही है। इसके बाद ही एनडीआरएफ के बटालियन मुख्यालय से स्वीकृति मिली और जवान तैनात किए गए।

लॉकडाउन को प्रभावी बनाने के लिए सात टास्क फोर्स गठित

राज्य में कोरोना संक्रमण के दो मरीजों के मिलने के बाद प्रशासनिक स्तर पर सख्ती तेज कर दी गई है। लॉकडाउन और अधिक प्रभावी बनाने के उद्देश्य से राज्य में सात अलग-अलग टास्क फोर्स का गठन किया गया है। इससे संबंधित आदेश मुख्य सचिव सुखदेव सिंह ने शुक्रवार को जारी कर दिया। उन्होंने जारी आदेश में लिखा है कि कोरोना वायरस के संक्रमण से आम लोगों को कम से कम नुकसान हो, इसे देखते हुए ऐसा किया गया है। संभावित संक्रमण की स्थिति में व्यक्ति को होम क्वारंटाइन या सरकारी क्वारंटाइन के प्रोटोकॉल के अंतर्गत रखने के लिए सुचारू प्रणाली जरूरी है।

कोरोना वायरस के संक्रमण के फैलाव के रोकथाम, इलाज, प्रचार, प्रसार तथा सूचनाओं के आदान-प्रदान तथा स्थिति पर लगातार निगरानी रखने के उद्देश्य से ही स्वास्थ्य चिकित्सा, शिक्षा एवं परिवार कल्याण विभाग ने 23 मार्च को राज्य स्तर से लेकर पंचायत स्तर तक कमेटियों का गठन किया था। इस व्यवस्था को प्रभावी बनाने के उद्देश्य से ही यह टास्क फोर्स गठित किया गया है। टास्क फोर्स अपनी कमेटियों की समस्याओं को सुनेगा, विधि-व्यवस्था संबंधी वैसी परेशानियां जो ऊपर के स्तर पर सुलझेंगी, उसे सुलझाएगा।

स्टेट कोविड-19 रिस्पांस टास्क फोर्स

अध्यक्ष : मुख्य सचिव सुखदेव सिंह।

सदस्य : गृह सचिव, डीजीपी एमवी राव, अपर मुख्य सचिव योजना सह वित्त विभाग केके खंडेलवाल, अपर मुख्य सचिव खाद्य आपूर्ति वितरण एवं उपभोक्ता मामले विभाग अरुण कुमार सिंह, स्कूली शिक्षा एवं साक्षरता विकास विभाग के प्रधान सचिव एपी सिंह, ग्रामीण विकास विभाग के प्रधान सचिव अविनाश कुमार, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव डॉ. राजीव अरुण एक्का, मंत्रिमंडल सचिवालय एवं निगरानी विभाग के प्रधान सचिव अजय कुमार सिंह, स्वास्थ्य चिकित्सा शिक्षा एवं परिवार कल्याण विभाग के प्रधान सचिव डॉ. नितिन मदन कुलकर्णी व आपदा प्रबंधन प्रभाग के संयुक्त सचिव मनीष तिवारी।

मेडिकल रिस्पांस मैनेजमेंट टास्क फोर्स

अध्यक्ष : स्वास्थ्य चिकित्सा शिक्षा एवं परिवार कल्याण विभाग के प्रधान सचिव नितिन मदन कुलकर्णी।

सदस्य : खान एवं भूतत्व विभाग के सचिव अबू बकर सिद्दिक पी., एनआरएचएम के मिशन निदेशक शैलेश चौरसिया, स्वास्थ्य चिकित्सा शिक्षा एवं परिवार कल्याण विभाग के विशेष कार्य पदाधिकारी उमाशंकर सिंह, निदेशक प्रमुख स्वास्थ्य सेवाएं, निदेशक रिम्स व भारतीय चिकित्सा संघ झारखंड इकाई के प्रतिनिधि।

पब्लिक हेल्थ सर्विलांस टास्क फोर्स

अध्यक्ष : स्वास्थ्य चिकित्सा शिक्षा एवं परिवार कल्याण विभाग के प्रधान सचिव नितिन मदन कुलकर्णी।

सदस्य : पेयजल आपूर्ति एवं स्वच्छता विभाग के सचिव आराधना पटनायक, डीआइजी विशेष शाखा अखिलेश झा, जेएसएलपीएस के सीईओ राजीव कुमार, स्वास्थ्य चिकित्सा, शिक्षा एवं परिवार कल्याण विभाग के विशेष कार्य पदाधिकारी फैज अक अहमद मुमताज, डब्ल्यूएचओ से नामित सदस्य व स्वास्थ्य विभाग के विशेष कार्य पदाधिकारी दिव्यांशु झा।

लॉकडाउन इंप्लिमेंटेशन टास्क फोर्स

अध्यक्ष : योजना सह वित्त विभाग के अपर मुख्य सचिव केके खंडेलवाल।

सदस्य : राजस्व निबंधन एवं भूमि सुधार विभाग के सचिव कमल किशोर सोन, नगर विकास एवं आवास विभाग के सचिव विनय चौबे, एडीजी आरके मल्लिक व आपदा प्रबंधन प्रभाग के संयुक्त सचिव मनीष तिवारी।

सप्लाई चेन मैनेजमेंट टास्क फोर्स

अध्यक्ष : खाद्य सार्वजनिक वितरण एवं उपभोक्ता मामले विभाग के अपर मुख्य सचिव अरुण कुमार सिंह।

सदस्य : उत्पाद एवं मद्य निषेध विभाग के सचिव राहुल शर्मा, महिला बाल विकास एवं सामाजिक सुरक्षा विभाग के सचिव अमिताभ कौशल, उद्योग विभाग के सचिव प्रवीण कुमार टोप्पो, परिवहन एवं नागर विमानन विभाग के सचिव के. रवि व कृषि निदेशक छवि रंजन।

वेलफेयर मेजर्स टास्क फोर्स

अध्यक्ष : ग्रामीण विकास विभाग के प्रधान सचिव अविनाश कुमार।

सदस्य : सचिव हिमानी पांडेय, पूजा सिंहल, मनरेगा आयुक्त सिद्धार्थ त्रिपाठी व समाज कल्याण विभाग के निदेशक मनोज कुमार।

पब्लिक अवेयरनेस एंड ग्रिवांस रिड्रेसल टास्क फोर्स

अध्यक्ष : मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव राजीव अरुण एक्का।

सदस्य : सचिव सुनील कुमार, प्रशांत कुमार, सूचना एंव जन संपर्क विभाग के निदेशक राजीव लोचन बक्शी, उत्पाद आयुक्त भोर सिंह यादव, उच्च शिक्षा निदेशक सुशांत गौरव।

Posted By: Alok Shahi

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस