रांची, राज्य ब्यूरो। झारखंड प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रवक्ता आलोक कुमार दुबे और लाल किशोरनाथ शाहदेव ने आरोप लगाया है कि केंद्र सरकार आर्थिक मोर्चे पर पूरी तरह से विफल रही है। देश 70 साल में सबसे बड़े आर्थिक संकट से गुजर रहा है। अर्थव्यवस्था आइसीयू में है। डॉलर के मुकाबले रुपया अब तक के निचले स्तर पर है। कांग्रेस प्रवक्ताओं ने कहा कि भारत के विकास की दर का अनुमान घटते जा रहा है और अब यह 6.1 फीसद ही है, जो काफी चिंताजनक है।

लाल किशोरनाथ शाहदेव ने कहा कि नीति आयोग ने 17 अक्टूबर को नई दिल्ली में भारत नवाचार सूचकांक जारी किया, जिसमें सबसे पहले स्थान पर कर्नाटक है। कर्नाटक में हाल तक कांग्रेस गठबंधन की सरकार थी, इसी कारण यह सफलता मिली। दूसरे स्थान पर भी गैर भाजपा शासित राज्य तमिलनाडु है। इसी तरह से दिल्ली, केरल, बंगाल, आंध्र प्रदेश, ओडिशा, राजस्थान, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़ और बिहार भी झारखंड से आगे हैं। 17 राज्यों के सूचकांक में झारखंड का स्थान सबसे नीचे है।

कहा कि आर्थिक मोर्चे को दुरुस्त करने के सरकार के तमाम प्रयास विफल हुए हैं। यहां तक कि सरकार ने कॉरपोरेट घरानों के लिए 10 परसेंट तक की छूट दी है, फिर भी नया निवेश नहीं दिख रहा है। प्रवक्ता लाल किशोरनाथ शाहदेव ने कहा है कि नीति आयोग की ओर से जारी रिपोर्ट से झारखंड में निवेश और विकास के दावों का पोल खुल गया है।

Posted By: Sujeet Kumar Suman

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप