रांची, जासं। सिविल कोर्ट में फिल्म निर्माता-निर्देशक एकता कपूर के खिलाफ 31 जनवरी को शिकायतवाद दर्ज कराया गया है। शिकायतवाद पिस्का मोड़, झारखंड नगर के पराशर अर्पामेंट में रहने वाली रानी सिन्हा ने दर्ज कराई है। सोमवार को न्यायिक दंडाधिकारी अभिषेक प्रसाद की अदालत में शिकायतकर्ता की गवाही हुई। इस मामले में बालाजी टेलिफिल्म के जनसंपर्क अधिकारी अर्पित गुप्ता, राष्ट्रीय प्रशासन हेड रीचा बोदास, एकता कपूर से जुड़ी आइसीई कंपनी के निदेशक (पटना) को भी आरोपित बनाया गया है।

सीरियल में काम देने के नाम पर ठगी

रानी सिन्हा का कहना है कि उसकी बेटी सिमरन नंदनी को सीरियल में काम देने के नाम पर 2.86 लाख रुपये की ठगी की गई है। सिमरन नंदनी सीरियल में एक्टिंग करना चाहती थी। उसने 2018 में बालाजी टेलीफिल्‍म से जुड़ी ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट से संपर्क किया। इसके बाद पटना में आयोजित ऑडिशन में हिस्सा लिया। ऑडिशन के बाद कंपनी की ओर से कहा गया कि मुंबई में तीन माह की विशेष ट्रेनिंग करने के बाद जी-न्यूज में काम दिलाया जाएगा।

15 जून 2018 को नंदनी अपनी मां के साथ मुंबई पहुंची। वहां आइसीई ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट में दाखिला कराया। लेकिन ट्रेनिंग के बाद भी कोई काम नहीं दिया गया। जब इस संबंध में ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट के अधिकारियों से बात की गई तो बताया गया कि काम दिलाने का ठेका नहीं लिया है। रानी सिन्हा के अनुसार नामांकन और कोर्स फी के लिए ड्राफ्ट एकता कपूर के नाम से बनवाया गया।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस