रांची, राज्य ब्यूरो। Weekly News Roundup Ranchi संताल और कोल्हान के बाद मुख्यमंत्री रघुवर दास के जोहार जन आशीर्वाद रथ ने अब उत्तरी छोटानागपुर प्रमंडल का रुख किया है। विधानसभा सीटों के लिहाज से यह झारखंड का सबसे बड़ा प्रमंडल है। 23 विधानसभा क्षेत्रों वाले इस प्रमंडल की सीमाएं बिहार से भी मिलती हैं और पश्चिम बंगाल से भी। जाहिर है पड़ोसी राज्यों की राजनीति भी कुछ हद तक इस प्रमंडल को प्रभावित करती है। मुख्यमंत्री का रथ इस प्रमंडल में 23 अक्टूबर तक रहेगा।

मुख्यमंत्री ने पिछले एक सप्ताह में इस प्रमंडल के हजारीबाग, बरकट्ठा, निरसा, सिंदरी, झरिया, धनबाद, बाघमारा, टुंडी, गांडेय, जमुआ, कोडरमा और बहरी विधानसभा क्षेत्र को अपने रथ से नापा है। सीएम ने यहां सभाएं और रोड शो तो किए ही संगठन के स्तर पर पार्टी की गतिविधियों का भी जायजा लिया। कोल्हान और संताल से इतर यहां मुख्यमंत्री के निशाने पर सिर्फ झामुमो ही नहीं रही।

मुख्य विपक्षी दल झामुमो के साथ-साथ मुख्यमंत्री ने कांग्रेस व राजद के साथ-साथ वामदलों के लाल झंडे को भी निशाना बनाया। स्पष्ट कहा कि लाल झंडे वाले मजदूर की बात करते हैं, लेकिन उनका विकास नहीं चाहते। यही वजह है कि लाल झंडा पूरी दुनिया से उखड़ गया। रविवार को कोडरमा में बोले परिवारवाद पर निशाना साधते हुए कहा कि कांग्रेस, झामुमो और राजद परिवार की कंपनी की तरह राजनीति कर रहे हैं। जोहर जन आशीर्वाद यात्रा के दौरान सीएम ने पार्टी के विकास के एजेंडे को भी जनता से साझा किया और उत्तरी छोटानागपुर में सरकार के स्तर से चलाए गए विकास कार्यों की चर्चा भी की।

झामुमो को चौतरफा घेरने में जुटी भाजपा

विधानसभा चुनाव में भाजपा विपक्षी दल झामुमो को ही अपना मुख्य प्रतिद्वंद्वी मानकर चल रही है। सत्ता और संगठन के माध्यम से पार्टी लगातार झामुमो पर प्रहार कर रही है। सीएनटी-एसपीटी के उल्लंघन को भाजपा ने अपना हथियार बनाया है। संगठन के स्तर पर भाजपा ने अनुसूचित जनजाति मोर्चा को झामुमो की घेराबंदी पर लगाया है। इस एक्ट के उल्लंघन के मामले में शनिवार को भाजपा ने शीर्ष नेताओं ने मुख्य सचिव डीके तिवारी से मुलाकात कर इसकी शिकायत की और एक विस्तृत ज्ञापन सौंप पूरे मामले की निष्पक्ष जांच कराने की मांग की।

टिकट को ले तेज हुई हलचल

विधानसभा चुनाव की तारीखों के शीघ्र एलान की संभावना को देखते हुए भाजपा में टिकट की हलचल तेज हो गई है। तमाम दावेदार अपने कुबने के साथ राजधानी रांची का रुख किए हुए हैं। विधानसभा के चुनाव प्रभारी ओम प्रकाश माथुर और संगठन महामंत्री धर्मपाल सिंह से मुलाकात कर उन्हें अपने कार्यों का लेखा-जोखा बायोडाटा के रूप में सौंप रहे हैं। हालांकि पार्टी के स्तर से टिकट को लेकर अभी कोई सक्रियता दिखाई नहीं जा रही है। विधानसभा चुनाव की तारीखों के एलान के बाद ही चुनाव समिति की बैठक होने की बात कही जा रही है।

Posted By: Alok Shahi

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस