रांची, राज्य ब्यूरो। मुख्यमंत्री  रघुवर दास ने महात्मा गांधी की 150वीं जयंती वर्ष के अवसर पर खादी परिधानों के प्रचार-प्रसार एवं बिक्री हेतु चलंत वाहन खादी-ऑन- व्हील्स (Khadi On Wheels) का शुभारंभ कांके रोड स्थित मुख्यमंत्री आवास से किया। बदलते समय में खादी परिधानों की मांग हाल के वर्षों में बढ़ी है। चलंत वाहन के माध्यम से उपभोक्ता अब अपने पसंदीदा खादी के वस्त्र खरीद सकेंगे। इस मौके पर रांची सांसद संजय सेठ, राज्य सभा सांसद महेश पोद्दार, उद्योग सचिव  के रविकुमार व अन्य उपस्थित थे।

सीएम ने इस मौके पर कहा कि खादी वस्त्र नहीं, विचार है। यह आपको भारतीय संस्कृति से जोड़े रखता है। जन-जन तक खादी पहुंचे, इस दिशा में खादी ऑन व्हील्स की पहल सराहनीय है। उन्‍होंने कहा कि खादी भारतीयता की पहचान है, जन-जन का अभिमान है। खादी वस्त्रों को अपनाएं और स्वदेशी को बढ़ावा दें। आपकी ये पहल हमारी सांस्कृतिक विरासत को सहेजने वाले बुनकर भाई-बहनों की समृद्धि सुनिश्चित करेगी।

34 करोड़ की विभिन्न योजनाओं का शिलान्यास

मुख्यमंत्री रघुवर दास ने 534 करोड़ रुपए की विभिन्न योजनाओं का शिलान्यास किया। इनमें रांची के बाजरा और बन हौरा समेत अन्य जिलों में प्रस्तावित प्रधानमंत्री आवास तथा रांची जलापूर्ति फेज 2 शामिल है। इस मौके पर मुख्यमंत्री ने कहा कि पिछले साढ़े चार वर्षों में सरकार ने विभिन्न योजनाओं के तहत 10.44 लाख आवास बनवाये। प्रधानमंत्री ने 2024 तक हर घर को पाइप लाइन के सहारे पानी देने का लक्ष्य रखा है। रघुवर सरकार 2022 में यह कार्य पूरा करेगी। उन्होंने हर गांव में माजीथान स्थापित करने की घोषणा की। साथ ही रांची के करमटोली तालाब के पास डेढ़ करोड़ की लागत से घुमकुड़िया भवन बनाए जाने की बात कही।

इधर, मुख्यमंत्री रघुवर दास मंगलवार को ब्राम्बे स्थित होटल प्रबंधन, खानपान तकनीक एवं पोषण आहार संस्थान का उद्घाटन किया। इस मौके पर उन्‍होंने स्वदेश दर्शन योजना के तहत 57.91 करोड़ रुपये की लागत से नेतरहाट, बेतला, मिर्चया जलप्रपात, दलमा, चांडिल डैम और गेतलसूद को इको टूरिज्म के रूप में विकसित करने के लिए प्रोजेक्ट का शिलान्यास किया। मौके पर लोकसभा सदस्य सुदर्शन भगत व विभागीय मंत्री अमर बाउरी आदि उपस्थित रहे। नवनिर्मित होटल प्रबंधन, खानपान तकनीक एवं पोषण आहार संस्थान में अल्ट्रा आधुनिक क्लास रूम, पांच किचेन, एक बेकरी, दो रेस्टोरेंट, हाउस कीपिंग प्रशिक्षण केंद्र, गेस्ट रूम, कंप्यूटर लैब, लैंग्वेज लैब आदि सुविधाएं उपलब्ध हैं।

संस्थान में लगभग 350 छात्रों की क्षमता वाला एक छात्रावास और शिक्षक व कर्मचारियों के लिए आवास भी निर्मित है। यहां विद्यार्थियों के लिए इंडोर व आउटडोर गेम की भी सुविधा उपलब्ध है। 'इको टूरिज्म' प्रोजेक्ट के तहत दलमा-चांडिल-गेतलसूद-बेतलर-मिरचइया-नेतरहाट में इको टूरिज्म सर्किट विकसित किया जाएगा। इस प्रोजेक्ट के तहत संबंधित पर्यटन स्थलों में सुविधाएं बढ़ाई जाएंगी तथा उनका सुंदरीकरण किया जाएगा। इसी तरह, 'लुगुबुरू तीर्थयात्री सेवा योजना' के तहत वहां का पर्यटकीय विकास किया जाएगा। लुगुबरू में रोपवे निर्माण की भी योजना है।

Posted By: Alok Shahi

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप