राज्य ब्यूरो, रांची। मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा है कि धर्मांतरण से जनजातीय समाज को कोई लाभ नहीं पहुंचा है। अलबत्ता, इससे कुछ एनजीओ और चर्च जरूर मालामाल हुए हैं। उन्होंने धर्मांतरण के मुद्दे को गांव-गांव तक पहुंचाने का टास्क भाजपा जिलाध्यक्षों और जिला बीस सूत्री उपाध्यक्ष को सौंपा है।

मुख्यमंत्री सोमवार को भाजपा कार्यसमिति की बैठक के बाद सभी भाजपा जिलाध्यक्षों और जिला बीस सूत्री उपाध्यक्षों के साथ बैठक कर रहे थे। मौके पर सीएम ने सरना समाज को यह बताना है कि धर्मांतरण से जनजातीय समाज को लाभ नहीं मिला है। जनजातीय समाज आज भी गरीब है, जबकि कुछ एनजीओ और चर्च इससे जरूर मालामाल हुए हैं। उन्होंने सभी से इस पर कड़ी नजर रखने को कहा। साथ ही, जबरन धर्मांतरण की कहीं भी शिकायत मिलने पर सरकार को तत्काल सूचना देने को कहा।

उन्होंने हाल ही में लागू धर्म स्वतंत्र कानून की जानकारी देते हुए कहा कि जबरन धर्मांतरण की सूचना पर सरकार तुरंत एक्शन लेगी। मुख्यमंत्री ने झारखंड में भाजपा के 40 लाख परिवारों तक पहुंचने के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह के निर्देश के अनुपालन पर भी चर्चा की। छठ के बाद से इसमें जुट जाने का आह्वान किया। यह अभियान अगले साल मार्च-अप्रैल तक चलेगा।

यह भी पढ़ेंः झारखंड में 28 दिसंबर से लागू होगी स्वास्थ्य बीमा योजना

Posted By: Sachin Mishra

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस