रांची, राज्य ब्यूरो। मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने कहा कि केंद्र सरकार ने राज्यों को पूरी तरह से भगवान भरोसे छोड़ दिया है। अब सारी चीजें राज्यों को तय करनी है। सोमवार को प्रोजेक्ट भवन सचिवालय में मीडिया से बातचीत में मुख्यमंत्री ने लॉक डाउन की रियायत को लेकर राज्य सरकार के स्तर से लिए गए फैसलों पर स्थिति स्पष्ट की। कहा, राज्य में धार्मिक स्थल लॉक डाउन खत्म होने तक नहीं खोले जाएंगे, शिक्षण संस्थान भी फिलहाल बंद रहेंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार कोरोना संक्रमण के मामलों को ध्यान में रखते हुए लॉकडाउन खोलने की दिशा में धीरे-धीरे आगे बढ़ रही है।

लॉकडाउन में दी गई ढील की सरकार लगातार समीक्षा करेगी। संक्रमण के मामले बढ़े या नियमों के अनुपालन में कोताही देखी गई तो छूट पर पुनॢवचार किया जाएगा। उन्होंने स्पष्ट किया है कि समीक्षा के बाद जरूरत पड़ी तो सरकार ढील वापस भी ले सकती है। ऐसा नहीं होना चाहिए कि संक्रमित लोग बाजार में घूमने लगें। वर्तमान परिस्थिति पर चिंता जताते हुए उन्होंने कहा कि अभी लगातार मामले सामने आ रहे हैं। इन सबको ध्यान में रखते हुए लॉकडाउन खोलने को लेकर हमारी गति थोड़ी धीमी है।

सरकार द्वेष की भावना से काम नहीं करती

भ्रष्टाचार से जुड़े मामलों पर कार्रवाई से जुड़े सवाल पर कहा कि हमारी सरकार कभी द्वेष भावना से कभी काम नहीं करेगी। ये सरकार बिल्कुल पारदर्शिता से काम कर रही है। बेहतर काम करने वालों की सराहना की जाएगी और गलत करने वालों के खिलाफ कार्रवाई होगी।

Posted By: Sujeet Kumar Suman

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस