रांची, राज्य ब्यूरो।मुख्यमंत्री रघुवर दास ने मानव तस्करी से मुक्त कराए गए और अनाथ बच्चों को हर स्तर की सुविधा दिए जाने की घोषणा की है। कहा है कि सरकार 2000 अनाथ बच्चों के लिए छात्रावास खोलेगी, जहां उनके पठन-पाठन और कौशल विकास से लेकर प्लेसमेंट तक की सुविधा रहेगी। आगामी बजट सत्र में इसके लिए राशि का प्रावधान किया जाएगा।

उन्होंने दो टूक कहा कि उनके रहते हुए कोई खुद को अनाथ न समझे। सीएम ने भावुक होते हुए कहा कि रघुवर का दास ऐसे बच्चों का मां-बाप है। वे शनिवार को राजधानी रांची के राजेंद्र भवन में आयोजित बाल अधिकार महोत्सव को संबोधित कर रहे थे। अंतरराष्ट्रीय बाल अधिकार जागरूकता सप्ताह के अवसर पर आयोजित इस कार्यक्रम में राज्य के बाल गृहों में रह रहे 250 बच्चों ने शिरकत की। बच्चों ने इस दौरान कई रंगारंग कार्यक्रम पेश किए।

इस सप्ताह के दौरान जिला और राज्य स्तर पर आयोजित विभिन्न प्रतियोगिताओं में उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले 25 बच्चों का चयन दिल्ली में आयोजित होने वाले प्रतियोगिता के लिए किया गया। ये बच्चे पहली बार हवाई मार्ग से दिल्ली जाएंगे।

मुख्यमंत्री ने इन बच्चों को अपने विवेकाधीन कोटे से दो-दो हजार रुपये देने की भी घोषणा की। इस दौरान बच्चों के चेहरे पर खुशी का भाव देखने को मिला। बच्चों से मुख्यमंत्री ने काफी देर तक बात भी की। वहीं बच्चों ने भी अपनत्व से अपनी भावनाओं से अवगत कराया। बच्चों ने इस मौके पर कई कार्यक्रम भी पेश किए। बच्चों की सृजनात्मक क्षमता देख सीएम काफी प्रभावित हुए।

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप