हजारीबाग,जासं । त्योहारों के दौरान कोरोना को लेकर लापरवाही घातक साबित हो सकती है। दुर्गा पूजा बीतने के ठीक बाद कोरोना के मिले तीन मरीज इसके संकेत दे रहे हैं। मंगलवार को आई रिपोर्ट में इसकी पुष्टि हुई है। तीनों मरीज हजारीबाग शहरी क्षेत्र के हैं। इन्हें हजारीबाग सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में रखा गया है। जानकारी के मुताबिक तीन दिन पहले इनकी जांच की गई थी। वहीं 1 महीने के बाद फिर से कोरोना के मामले मिलने के बाद प्रशासन हरकत में आ गया है। हजारीबाग उपायुक्त आदित्य कुमार आनंद ने कोरोना गाइडलाइन को फॉलो करवाने के सख्त निर्देश हैं। आज से ही मास्क की जांच को लेकर अभियान शुरू किया जाएगा।

मास्क नहीं लगाने वाले लोगों पर जुर्माना भी लगाया जाएगा। दुकानदारों को भी गाइडलाइन फॉलो करने के सख्त निर्देश दिए गए हैं। मालूम हो कि अब तक हजारीबाग में कोरोना के 19456 मरीज मिल चुके हैं। इनमें 186 लोगों की मौत हुई है। वहीं 150 लोगों की मौत को कोरोना संदिग्ध बताया गया था। लेकिन, आश्चर्य की बात है कि अब तक इनकी रिपोर्ट नहीं आई है। इन सभी की मौत हजारीबाग मेडिकल कॉलेज अस्पताल में हुई थी।

अचानक होटलों और लॉज की जांच करने पहुंच गई हजारीबाग पुलिस

 मंगलवार की देर रात हजारीबाग एसपी मनोज रतन चौथे के निर्देश पर सदर थाने की पुलिस ने शहर के होटलों और लॉज की छानबीन शुरू कर दी। डार्क लव होटल, होटल पैराडाइज, नंदगांव समेत आधा दर्जन लॉजों की छानबीन की। होटलों के रजिस्टर की जांच की गई। आगंतुकों के बारे में जानकारी ली गई। वहीं लॉज मालिकों को हिदायत दी गई कि लॉज में रहने वाले व्यक्ति की पूरी जानकारी रखें। सूचना थाने को जरूर दें। आधी अधूरी सूचना रखने पर लॉज मालिकों पर भी कार्यवाही की जाएगी।

करीब एक घंटे तक पुलिस का यह अभियान चला। पुलिस सभी लॉज संचालकों को नोटिस भी जारी करेगी। मालूम हो कि 15 दिन पहले हजारीबाग शिवपुरी मोहल्ले में एक अपार्टमेंट से ऋषभ शर्मा नामक एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया गया था। उस पर सेना में बहाली के नाम पर एक करोड़ रुपये ठगी का आरोप था। इस मामले में उसकी पत्नी को भी गिरफ्तार किया गया था। दोनों के गिरफ्तारी के बाद से ही हजारीबाग पुलिस के द्वारा अपार्टमेंट लॉज और होटलों में छानबीन शुरू की गई है।

Edited By: Kanchan Singh