रांची, जासं। बदलते दौर की मम्मियों ने किचन से लेकर रैंप तक का सफर तय कर लिया है। बच्चों के होमवर्क, उनकी किताबें और उनकी पोयम ही नहीं, उनकी लाइफस्टाइल को भी अपना लिया है। तभी तो वे आज के युग की सुपर मॉम हैं। रविवार को मदर्स डे के अवसर पर कलाकृति स्कूल ऑफ आ‌र्ट्स की ओर से आयोजित कार्यक्रम में ये मम्मियां रैंप पर चलते हुई नजर आई।

डोरंडा कन्या पाठशाला में मदर्स डे के अवसर पर 200 बच्चों की मां ने भाग लिया। आयोजन में सुपर मॉम ओवरऑल की विजेता डिंपल चौधरी रहीं। नम्रता सिंह को क्रिएटिव मदर का अवार्ड मिला। बेस्ट ड्रेस्ड मदर का खिताब माधुरी दूबे को मिला। सरिता लामा को डासिंग डीवा और कस्तूरी कुमारी को सिंगिंग डीवा का अवार्ड मिला। सभी विजेताओं को क्राउन पहनाया गया और कार्यक्रम के प्रयोजक द्वारा पुरस्कार दिया गया।

मुख्य अतिथि के रूप में मिसेज एशिया रिंकू भकत उपस्थित हुई। विशिष्ट अतिथि डॉ. रश्मि, निदेशक संतोष कॉलेज ऑफ टीचर, नारंग इंफोटेक से सन्नी नारंग एवं डॉटफिश से शशिकांत उपस्थित थे। रिंकू भगत ने कहा कि सभी बच्चों के आपनी मां का आदर सम्मान करना चाहिए।

बच्चों के सपनों को कागज पर उतारा - आयोजन में मम्मियों के लिए विभिन्न प्रतियोगिताएं आयोजित की गई। इन कार्यक्रमों में मां के साथ बच्चों ने भी भाग लिया। मोस्ट क्रिएटिव चित्रकला प्रतियोगिता में मां ने अपने बच्चों के सपने को कागज पर चित्र के माध्यम से दिखाया। दूसरी प्रतियोगिता में सुपर मदर, बेस्ट ड्रेस्ड, डासिंग डीवा और सिंगिंग डीवा मदर आदि का आयोजन किया गया।

मौके पर कई मांओं ने डांस किया और गाना गाया। कलाकृति के निदेशक धनंजय कुमार ने अपने संबोधन में कहा कि माताएं अपना सबकुछ त्याग कर भी अपने बच्चों को एक मुकाम तक ले के जाती हैं। बच्चों को अपनी मां को सर्वोच्च स्थान देना चाहिए।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस