रांची, राज्‍य ब्‍यूरो।  हजारीबाग के सिविल कोर्ट परिसर में गोलियों से छलनी किए गए गैंगस्टर सुशील श्रीवास्तव के बेटे अमन श्रीवास्तव के करीब दर्जनभर ठिकानों पर झारखंड पुलिस के आतंकवाद निरोधक दस्ते (एटीएस) कि दो दिनों तक छापेमारी हुई। इस छापेमारी में एटीएस को रंगदारी के 34 लाख 30 हज़ार रुपये, हथियार, महंगी गाड़ियां मिली हैं, जिन्हें जब्त किया गया है। अलग-अलग जगहों से तीन सहयोगी भी गिरफ्तार किए गए हैं। एटीएस की छापेमारी आंध्र प्रदेश के काकीनाडा, कर्नाटक के बेंगलुरु के अलावा झारखंड में रांची, लातेहार व चतरा जिले में की गई है।

कहां कहां छापेमारी में क्या मिला

  • अमन श्रीवास्तव के चचेरे भाई प्रिंसराज श्रीवास्तव के डोरंडा के किलबर्न कॉलोनी स्थित आवास कौशल्या विला अपार्टमेंट से अंगरक्षक संजय कर्मकार के कमरे से एक रिवाल्वर व छह कारतूस जब्त। डोरंडा थाने में आर्म्स एक्ट का केस दर्ज आरोपित संजय कर्मकार गिरफ्तार।
  • रांची के लालपुर में अंबिका अपार्टमेंट निवासी सिद्धार्थ साहू के यहां छापेमारी में रंगदारी से वसूले गए 28 लाख 88 हजार रुपये नगदी बरामद। सिद्धार्थ साहू गिरफ्तार। यह पूर्व में भी अमन श्रीवास्तव एवं उनके परिवार के सदस्यों के कहने पर रंगदारी के पैसों को हवाला के माध्यम से अमन श्रीवास्तव, मंजरी श्रीवास्तव, चंद्र प्रकाश राणु एवं अभिक श्रीवास्तव को पैसे भेज चुका है।
  • चतरा जिले के जोरी थाना क्षेत्र स्थित सीलदाहा निवासी विनोद कुमार पांडेय के आवास से गिरोह के रंगदारी के पांच लाख 42 हज़ार रुपये बरामद। विनोद कुमार पांडेय गिरफ्तार।
  • आंध्र प्रदेश के काकीनाडा से अमन श्रीवास्तव गिरोह का प्रमुख सदस्य फिरोज खान उर्फ साना खान गिरफ्तार। वह मूल रूप से रांची के खलारी का रहने वाला है। वह लातेहार के बालूमाथ थाना के एक केस का वांछित अभियुक्त भी है। उसके पास से आधा दर्जन मोबाइल व वाईफाई डोंगल बरामद किया गया है।
  • कर्नाटक के बेंगलुरु स्थित अमन श्रीवास्तव के ठिकाने से एक पजेरो गाड़ी वह एक महिंद्रा एक्सयूवी 500 गाड़ी तथा 6 मोबाइल फोन जब्त किया गया। यहां अमन श्रीवास्तव के अपराधिक सहयोगी अभिक श्रीवास्तव, मंजरी श्रीवास्तव, चंद्रप्रकाश राणु से पूछताछ की जा रही है

संगठित अपराध के खिलाफ एटीएस को मिली है छापेमारी की जिम्मेदारी

डीजीपी के निर्देश पर संगठित अपराध के खिलाफ झारखंड पुलिस के आतंकवाद निरोधक दस्ते को छापेमारी की जिम्मेदारी मिली है। इन आपराधिक गिरोहों के फंडिंग, आर्थिक स्रोत और हवाला चैनल के माध्यम से अपराध से अर्जित की गई संपत्ति का पता लगाने की जिम्मेदारी दी गई है। इसी आदेश के आलोक में झारखंड एटीएस ने श्रीवास्तव गिरोह के खिलाफ छापेमारी की है, जिसमें यह सफलता हाथ लगी है।

सुशील श्रीवास्तव की हत्या के बाद बेटा अमन श्रीवास्तव ने संभाला गिरोह

हजारीबाग के सिविल कोर्ट परिसर में पांडेय गिरोह के हाथों मारे गए गैंगस्टर सुशील श्रीवास्तव के बेटे अमन श्रीवास्तव ने गिरोह संचालन का कार्य संभाला था। अमन श्रीवास्तव को अपराधी सुजीत सिन्हा गैंग का समर्थन मिला। इस गिरोह का मुख्य धंधा कोयला क्षेत्र से खनन कार्य में लगे ट्रांसपोर्टरों और ठेकेदारों से लेवी वसूलना है। एटीएस की टीम इसी अपराधिक नेटवर्क को तोड़ने की लगातार कोशिश कर रही है।

हमला मामले में एटीएस ने खलारी थाने में दर्ज कराई प्राथमिकी

खलारी में छापेमारी के दौरान झारखंड एटीएस की टीम पर हमला मामले में सोमवार की शाम को हमलावरों के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई है। एटीएस मुख्यालय ने अपनी टीम को इससे संबंधित आदेश जारी किया था। इसके बाद ही एटीएस की टीम ने खलारी थाने में प्राथमिकी दर्ज कराई। दर्ज प्राथमिकी में बताया कि एटीएस की टीम खलारी थाना क्षेत्र स्थित राय मुस्लिम मोहल्ले में अमन श्रीवास्तव गिरोह के अपराधी मोहम्मद महमूद उर्फ नेपाली को पकड़ने गई थी। इसी बीच गोलबंद होकर वहां के लोगों ने एटीएस पर हमला कर दिया था।

Edited By: Madhukar Kumar