रांची : झारखंड विकास मोर्चा के भाजपा में विलय के साथ ही विद्रोही गुट ने दिल्ली जाकर कांग्रेस में विलय कर असली झाविमो के मुद्दे पर एक-दूसरे को भले ही चुनौती दी हो, लेकिन इस लड़ाई को आगे बढ़ाने के लिए कोई तैयार नहीं दिख रहा। बाबूलाल मरांडी पहले ही इसके संकेत दे चुके हैं और अब बंधु तिर्की ने भी कहा है कि असली झाविमो की लड़ाई लड़ने की कोई मंशा नहीं है। हम निष्कासित विधायक थे, लेकिन थे तो झाविमो के ही। सो, हमने विधायक दल के नेता के साथ कांग्रेस में जाने का फैसला लिया और विलय कर लिए। लेकिन, अब झाविमो पुराने दिनों की बात है और हम लोगों को कांग्रेस के लिए काम करना है। दोनों नेता अब शीघ्र ही झारखंड में बड़ा कार्यक्रम कर कांग्रेस में शामिल होंगे। इसके लिए प्रभात तारा मैदान को ही चुना गया है और नेताओं ने राहुल गांधी से इसके लिए समय भी मांगा है। राहुल गांधी से समय मिलते ही कार्यक्रम की तारीख तय हो जाएगी।

बंधु के बयान और बाबूलाल के संकेत से स्पष्ट हो रहा है कि आनेवाले दिनों में झाविमो की लड़ाई आगे नहीं बढ़नेवाली है। आनेवाले दिनों में यह स्पष्ट भी हो जाएगा लेकिन इस बात से भी इन्कार नहीं किया जा सकता है कि इस मुद्दे पर बयानबाजी जारी रहेगी और असली-नकली की चर्चा चलती रहेगी। प्रभात तारा मैदान में कार्यक्रम को लेकर कांग्रेस ने तैयारी शुरू कर दी है लेकिन तारीख तय नहीं होने से अभी इसमें गति नहीं आई है। बंधु तिर्की की मानें तो राहुल गांधी ने दोनों नेताओं को झारखंड आने के लिए आश्वस्त किया है।

-----

विधानसभा में होगी बैठने की व्यवस्था

झाविमो के विलय के बाद विधायक बाबूलाल मरांडी जहां विपक्षी बेंच पर बैठेंगे, वहीं प्रदीप यादव और बंधु तिर्की सत्ताधारी खेमे में होंगे। औपचारिक विलय के बाद भाजपा विधायक दल और कांग्रेस विधायक दल की ओर से दोनों के आगमन की सूचना विधानसभा सचिवालय को दी जाएगी।

---------

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस