इटखोरी (चतरा), जासं।  प्रखंड के महाने नदी से अवैध तरीके से बालू का उठाव कर बिक्री के लिए ले जा रहे है चार ट्रैक्टरों को स्थानीय प्रशासन ने बुधवार को जब्त कर लिया है। बालू लदे ट्रैक्टरों की जब्ती के बाद ट्रैक्टर संचालक सड़क पर उतर गए हैं। ट्रैक्टर संचालकों के द्वारा प्रशासन की इस कार्रवाई पर विरोध जताया जा रहा है। जानकारी के अनुसार स्थानीय अंचल अधिकारी राम विनय शर्मा के नेतृत्व में महाने नदी से बालू के अवैध उठाव को रोकने के लिए प्रशासन बुधवार की सुबह से ही सतर्क था।

महाने नदी से बालू का उठाव कर जैसे ही ट्रैक्टर सड़क पर पहुंचे, प्रशासन ने चारों ट्रैक्टरों को तत्काल जब्त कर लिया। प्रशासन द्वारा ट्रैक्टर जब्ती की सूचना मिलने के बाद महाने नदी से बालू का अवैध उठाव कर रहे अन्य ट्रैक्टर संचालक नदी से ट्रैक्टर लेकर फरार हो गए। बाद में कुछ ट्रैक्टर संचालकों ने थाना पहुंचकर प्रशासन की इस कार्रवाई पर विरोध जताया। ट्रैक्टर संचालकों का कहना है कि महाने नदी का बालू जरूरतमंद स्थानीय लोगों के बीच बिक्री किया जा रहा है।

सरकार के विकास कार्यों में भी बालू का इस्तेमाल हो रहा है। ऐसे में अगर प्रशासन बालू का उठाव नहीं होने देगा तो सारे विकास कार्य रूक जाएंगे। इधर प्रशासनिक अधिकारियों का कहना है कि खनन विभाग के द्वारा महाने नदी से बालू के उठाव को फिलहाल अवैध घोषित किया गया है। जब तक बालू घाट की नीलामी नहीं हो जाती है तब तक महाने नदी से बालू का उठाव होने नहीं दिया जाएगा। अवैध तरीके से बालू का उठाव करने वाले लोगों के विरुद्ध कानून सम्मत कार्रवाई की जाएगी। मालूम हो कि इटखोरी एवं मयूरहंड प्रखंड के अधिकतर ट्रैक्टर संचालक महाने नदी से ही बालू का उठाव करते हैं। सुबह चार बजे से ही महाने नदी से बालू उठाने के लिए ट्रैक्टरों का जमावड़ा लगना शुरू हो जाता है, जो शाम तक जारी रहता है।

Edited By: Kanchan Singh