चतरा, संवाद सहयोगी। झारखंड के चतरा शहर में एक विवाहिता की इसल‍िए हत्या कर दी गई, क्‍योंक‍ि वह गर्भपात कराने के ल‍िए तैयार नहीं थी। आरोप है क‍ि हत्‍या के बाद मह‍िला के शव को साक्ष्‍य म‍िटाने की नीयत से ठ‍िकाने लगा द‍िया गया। इस मामले में एक डाक्‍टर दंपत‍ि भी आरोप‍ित हैं।

शहर के बड़े कारोबारी पर‍िवार का मामला

जानकारी के अनुसार यह घटना चतरा शहर के एक बड़े कारोबारी पर‍िवार से जुड़ा है। आरोप है क‍ि मृतका के शव को साज‍िश के तहत ठिकाना लगा दिया गया। इतना ही नहीं सभी आरोप‍ित घर में ताला लगाकर पूरे परिवार के साथ फरार हो गए हैं। हर कोई इस घटना पर आश्‍चर्य व्‍यक्‍त कर रहा है।

इन लोगों पर दर्ज कराई गई है प्राथम‍िकी

जानकारी के अनुसार इस घटना के संबंध में चतरा सदर थाने में मृतका के पति प्रशांत अग्रवाल, ससुर निर्मल अग्रवाल और सास तथा चिकित्सक दंपति डॉक्टर प्रवीण कुमार अग्रवाल और डॉ. सपना अग्रवाल के विरुद्ध प्राथमिकी दर्ज कराई गई है। डाक्‍टर दंपत‍ि मृतका के देवर और देवरानी बताए जा रहे हैं।

चाचा ने ही पाल पोस कर क‍िया था बड़ा

चतरा सदर थाने की पुल‍िस के अनुसार, प्राथमिकी विवाहिता के स्वजन मागी साव ने दर्ज कराई है। विवाहिता चतरा जिले के पत्थलगडा थाना क्षेत्र के पुंडरा गांव की रहने वाली थी। बताया गया क‍ि उसके माता और पिता अब इस दुन‍िया में नहीं हैं। उसका लालन-पालन चाचा भागी साव ने किया था।

एक पुत्र की मां भी थी मृतका रानी

बताया गया क‍ि चाचा मागी साव ने ही वर्ष 2017 में अपनी भतीजी रानी कुमार की शादी चतरा शहर के प्रमुख कारोबारी निर्मल अग्रवाल के पुत्र प्रशांत अग्रवाल से की थी। निर्मल अग्रवाल शहर के केसरी चौके के समीप गौरक्षणी रोड के निवासी हैं। रानी कुमार और प्रशांत का एक बेटा है। परिवार का सदस्य और नहीं बढ़े, इसके लिए ससुराल वाले रानी पर दबाव देते थे।

बच्‍चा पैदा नहीं करने के ल‍िए डाल रहे थे दबाव

बताया गया क‍ि इसी क्रम में रानी गर्भवती हो गई। गर्भपात के लिए ससुराल वाले उस पर दबाव बनाने लगे। लेकिन वह तैयार नहीं हुई। आरोप‍ितों ने शनिवार की रात विवाहिता की हत्या कर शव को ठिकाना लगा दिया। सदर थाना पुलिस को घटना की जानकारी रविवार की सुबह मिली।

शव तलाश रही पुल‍िस, घर छोड़कर भागे आरोप‍ित

घटना की जानकारी मिलते ही पुलिस दलबल के साथ उनके आवास पर पहुंची। घर पर ताला लगा हुआ था। उसके बाद पुलिस ने शव और आरोपितों की खोजबीन शुरू कर दी है। हालांकि 12 घंटे बीत जाने के बावजूद पुलिस शव व आरोपितों को खोजने में नाकाम रही।

ग‍िरफ्तारी के ल‍िए पुल‍िस कर रही छापेमारी

इस बाबत मृतका के चाचा भागी साव ने सदर थाने में आवेदन देकर रानी कुमारी की निर्मम हत्या की प्राथमिकी दर्ज कराई है। इधर डॉ. प्रवीण कुमार से लगातार संपर्क करने का प्रयास किया गया, लेकिन उनका मोबाइल लगातार स्विच ऑफ मिलता रहा। इस कारण उनका पक्ष नहीं लिया जा सका। डा. प्रवीण अग्रवाल और डा. सपना अग्रवाल दोनों एमबीबीएस हैं। थाना प्रभारी लव कुमार ने बताया कि प्राथमिकी दर्ज कर ली गई है। गिरफ्तारी के ल‍िए छापेमारी की जा रही है।

Edited By: M Ekhlaque