रांची : गरीबी रेखा से नीचे गुजर बसर करने वाले परिवारों के लिए मुख्यमंत्री लक्ष्मी लाडली योजना योजना किसी वरदान से कम नहीं। बच्ची के जन्म से लेकर उसकी शिक्षा, यहां तक कि उसकी शादी तक के लिए धन राशि संरक्षित करने वाली इस योजना की विधिवत शुरुआत मंगलवार को हो गई। 15 नवंबर 2010 के बाद जन्मी बच्चियों को इस योजना का लाभ मिलेगा।

इस योजना के तहत बच्ची के जन्म से लेकर पांच वर्षो तक प्रति वर्ष 6000 रुपये की दर बच्ची के खाते में सरकार निवेश करेगी। एक निश्चित राशि से डाकघर में बच्ची के नाम से एकाउंट खोला जाएगा। बालिका जब छठी कक्षा में प्रवेश करेगी, उसे 2000 रुपये और नौवीं में प्रवेश करने पर 4000 रुपये का एकमुश्त भुगतान किया जाएगा। इसी तरह 11वीं में पहुंचने पर 7500 रुपये मिलेंगे।

इतना ही नहीं 11वीं और 12वीं कक्षा में इन बच्चियों को अन्य योजनाओं से प्राप्त होने वाली सुविधाओं के अलावा प्रतिमाह बतौर छात्रवृत्ति 200 रुपये दिए जाएंगे। बालिका की आयु 21 वर्ष होने और 12वीं की परीक्षा में सम्मिलित हो जाने पर उसे एकमुश्त एक लाख आठ हजार 600 रुपये दिए जाएंगे, बशर्ते कि उसकी शादी 18 वर्ष के बाद हुई हो।

जीवन आशा

समाज कल्याण, महिला एवं बाल विकास विभाग की इस योजना के तहत अति कुपोषित बच्चों को बेहतर चिकित्सकीय सुविधा प्रदान की जाएगी। प्रारंभिक चरण में ऐसे बच्चों की पहचान के ग्राम स्तर पर सर्वे होगा। कुपोषण की चपेट में आए बच्चों को उनके घर में ही बेहतर चिकित्सकीय सुविधा प्रदान की जाएगी, जबकि गंभीर बच्चों की चिकित्सा सरकार के खर्चे पर अस्पताल में होगी।

मोबाइल पर ताजा खबरें, फोटो, वीडियो व लाइव स्कोर देखने के लिए जाएं m.jagran.com पर