रांची,जासं : उपायुक्त छवि रंजन ने वन धन विकास केंद्र के संचालन के लिए सभी सदस्यों को आइआइएम रांची द्वारा चलाए जा रहे प्रशिक्षण केंद्र में प्रशिक्षण दिलाना सुनिश्चित करने का निर्देश दिया। साथ ही उन्होंने इमली की चटनी, अचार एवं कैंडी आदि के प्रोडक्शन, ब्रांडिंग, पैकेजिंग कर न्यूनतम समर्थित मूल्य में बेहतर बिक्री के लिए ट्राईफेड से समन्वय स्थापित करने का निदेश दिया।

बैठक में जिले में नौ वन धन केंद्र की स्थापना के लिए जेएसएलपीएस के प्रस्ताव को विभाग भेजने के लिए सर्वसम्मति से अनुमोदित किया गया। जिन वन धन केंद्रों की स्थापना प्रस्ताव भेजा जाएगा, उनमें

ग्राम-तिलकसुती, ईटकी, ग्राम-जोन्हा, अनगड़ा, ग्राम-गोमदा, राहे, ग्राम-मायाराम, जाराडीह( प्रखंड परिसर), सिल्ली,ग्राम-तमाड़, रायडीह मोड़, तमाड़, ओरमांझी प्रखंड परिसर, ओरमांझी, ग्राम-पंडाडीह, सोनाहातू, ग्राम-ककरिया, लापुंग और ग्राम-होरहाप महिलौंग, नामकुम शामिल हैं।

वन धन विकास केंद्रों के संचालन और नए केंद्रों की स्थापना को लेकर मंगलवार को जिलस्तरीय क्रियान्वयन एवं अनुश्रवण समिति की बैठक आयोजित की गई। बैठक में परियोजना निदेशक आइटीडीए, एसीएफ फॉरेस्ट डिविजन रांची, जिला कल्याण पदाधिकारी, जिला सहकारिता पदाधिकारी, परियोजना कार्यक्रम प्रबंधक जेएसएलपीएस, प्रतिनिधि सीएससी, प्रज्ञा केंद्र, वरीय प्रोग्राम कार्यपालक, ट्राईफेड, रांची और यंग प्रोफेशनल जेएसएलपीएस, रांची उपस्थित थे।

Edited By: Kanchan Singh