रांची,  राज्य ब्यूरो। झारखंड में नक्सलियों के खिलाफ अभियान में लगे जवानों-पदाधिकारियों का 48 लाख रुपये का बीमा होगा। राज्य में इस अभियान में झारखंड पुलिस व केंद्रीय अर्द्धसैनिक बल के 85408 जवान-पदाधिकारी शामिल हैं। बीमा सबका होगा, जिसके प्रीमियम का भुगतान 1000 रुपये प्रति जवान-पदाधिकारी की दर से पुलिस मुख्यालय करेगा। इसके लिए बीमा कंपनियों को 31 मई तक टेंडर भरने संबंधित सूचना जारी की गई है। आगामी चार जून को टेंडर खुलेगा। बीमा की वैधता 29 जून से अगले एक साल के लिए प्रभावी होगा। नक्सल विरोधी अभियान में शामिल पुलिसकर्मी-पदाधिकारी अगर अभियान के दौरान पड़ोसी राज्य में चले जाते हैं और वहां नक्सल हिंसा का शिकार हो जाते हैं, उन्हें भी बीमा का पूरा लाभ मिलेगा।

अभियान के दौरान 48 लाख रुपये का बीमा के लिए पुलिस मुख्यालय ने दी हैं शर्तें

- शहीद होने पर सौ फीसद राशि मिलेगी।

- स्थायी रूप से अपंग होने पर सौ फीसद राशि।

- अगर दो अंग या दोनों आंखें खोने पर भी सौ फीसद राशि।

- एक अंग या एक आंख खोने पर 50 फीसद राशि।

- स्थायी रूप से हल्की अपंगता पर आइआरडीए के नार्म्स के अनुसार।

- घायल अवस्था में अस्पताल में भर्ती होने पर कम से कम 15 लाख रुपये।

- शहीद पुलिसकर्मी के दो बच्चों की शिक्षा के लिए कम से कम एक लाख रुपये।

- शव ले जाने के लिए कम से कम 25 हजार रुपये।

- अभियान के दौरान सड़क व अन्य कारणों से दुर्घटना की स्थिति में कम से कम मृत्यु की स्थिति में साढ़े सात लाख रुपये व घायल होने की अवस्था में पांच लाख रुपये।

- सांप काटने की स्थिति में कम से कम साढ़े सात लाख रुपये। यह राशि पोस्टमार्टम रिपोर्ट मिलने के बाद देय होगी।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप