रांची, [प्रणय कुमार सिंह]। Jharkhand JAC Matric & Inter Model Question Paper 2021 झारखंड एकेडमिक काउंसिल (जैक) की इंटरमीडिएट परीक्षा आगामी नौ मार्च से होगी। मंगलवार को जैक की ओर से इंटर साइंस के मॉडल प्रश्नपत्र जारी कर दिए गए हैं। लेकिन, फिर एक बार जैक की लापरवाही परीक्षा की तैयारी कर रहे छात्रों पर भारी पड़ सकती है। दरअसल, परीक्षा की तैयारी करने के लिए जो मॉडल प्रश्नपत्र जारी किए गए हैं उनमें अशुद्धियों व गड़बडिय़ों की भरमार है। इससे तैयारी करने पर छात्र भ्रम में पड़ सकते हैं, जबकि परीक्षा में केवल 50 दिन बचे हैं।

जैक की कार्यशाला हो या स्कूल में कक्षाएं, सभी जगह यही कहा जाता है कि छात्र मॉडल प्रश्नपत्र से अच्छी तरह तैयारी करें। ऐसा करने से फाइनल परीक्षा में अच्छे अंक मिलेंगे। लेकिन, जैक ने एक तो विलंब से मॉडल प्रश्नपत्र जारी किया और वह भी जैसे-तैसे। मॉडल प्रश्नपत्र के अवलोकन से ही पता चलता है कि छात्रों के भविष्य के प्रति जैक व शिक्षक कितने लापरवाह हैं।

केमिस्ट्री के मॉडल प्रश्नपत्र में प्रश्न संख्या-37 व प्रश्न संख्या 41 हू-ब-हू मिलते हैं। प्रश्न 37 तीन तो प्रश्न 41 सात अंक के हैं। इतना ही नहीं, प्रश्न संख्या 37 में पूछा गया है- कोलाराउश का नियम क्या है? फिर नीचे लिखा हुआ है- निम्नलिखित पर संक्षिप्त टिप्पणी लिखें। इसमें चार अभिक्रियाओं पर संक्षिप्त टिप्पणी लिखने को कहा गया है। ये प्रश्न कम से कम छह अंक के होने चाहिए थे, जबकि तीन अंक के होने का उल्लेख है। इस हिसाब से देखा जाए, तो एक अभिक्रिया पर टिप्पणी लिखने पर 0.75 अंक मिलेंगे। जबकि, वस्तुनिष्ठ प्रश्न के लिए भी कम से कम एक अंक होता है। 

पूर्णांक 100, जोडऩे पर 104

गणित के मॉडल प्रश्नपत्र में पूर्णांक 100 लिखा है, जबकि सामान्य निर्देश के अनुसार अंकों को जोड़ा जाए, तो पूर्णांक 104 हो जाता है। दरअसल, सामान्य निर्देश में प्वाइंट चार में अंग्रेजी में लिखा हुआ है- 4 क्वेश्चन ऑफ 6 माक्र्स इच। इसी के हिंदी रूपांतरण में है- पांच-पांच अंक के चार प्रश्न हैं। अब छात्रों को यह समझ में नहीं आ रहा है कि अंग्रेजी वाला निर्देश सही मानें या हिंदी वाला। इसी तरह, प्रश्न संख्या-18 में टेन इन्वर्स में एंगल नहीं दिया गया है। प्रश्न संख्या- 38 में डायरेक्शन रेशियो की जगह रेशियोन लिखा हुआ है। वहीं, फिजिक्स के मॉडल प्रश्नपत्र में प्रश्न संख्या-1 में इलेक्ट्रिक इंटेंसिटी लिखा है, जबकि इलेक्ट्रिक फील्ड इंटेंसिटी होना चाहिए। 

मैट्रिक के मॉडल प्रश्नपत्र में भी कई गलतियां

जैक ने करीब दस दिन पहले मैट्रिक का मॉडल प्रश्नपत्र जारी किया था। इसमें भी गणित विषय में कई गलतियां हैं, जिन्हें अभी तक सुधारा नहीं गया है। प्रश्न संख्या- 41 में एक्स स्क्वायर की जगह एक्स क्यूब लिखा होना चाहिए था। इसी प्रश्न के अथवा में है- फाइव माइनस रूट थ्री परिमेय संख्या है। जबकि, यहां परिमेय की जगह अपरिमेय होना चाहिए। प्रश्न संख्या 42 में दिया गया है कि बज्र गुणन विधि से हल करें, जबकि सिलेबस से बज्र गुणन विधि हटाई जा चुकी है। इसी तरह खंड डी में लिखा हुआ है- प्रश्न संख्या 46 से 49 तक प्रत्येक 49 अंक का है, जबकि होना चाहिए 5 अंक का है।

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप