जागरण संवाददाता, रांची : लॉकडाउन के दौरान बेंगलुरु में फंसे गिरिडीह व धनबाद के 21 प्रवासी मजदूर व छात्र सोमवार को इंडिगो के विमान से बिरसा मुंडा एयरपोर्ट पहुंचे। इन प्रवासी मजदूरों व छात्रों को तकनीकी छात्र संघ के सहयोग से घर वापसी करायी गई। संघ के प्रदेश अध्यक्ष व मोदी प्रोजेक्ट्स में बतौर अभियंता डुमरी निवासी चंद्रिका महतो ने बताया कि प्रवासी मजदूरों व छात्रों में से सात गिरिडीह के हैं, जबकि शेष धनबाद जिले से हैं। बेंगलुरु से वाया दिल्ली रांची पहुंचने के बाद इन प्रवासी मजदूरों व छात्रों को बोलेरो व कार से उनके घर भेजा गया। बताया कि बेंगलुरु से लौटे प्रवासी मजदूर व छात्रों की सूचना गिरिडीह उपायुक्त को दे दी गई है। उपायुक्त के निर्देशानुसार, जिनके पास होम क्वारंटाइन की व्यवस्था है उन्हें क्वारंटाइन कर दिया गया है। शेष को गांव के पंचायत भवन में रहने का निर्देश दिया गया है। एक व्यक्ति पर खर्च हुए 12 हजार रुपये

बताया कि एक-एक छात्र व प्रवासी मजदूर को इंडिगो के विमान से बेंगलुरु से रांची लाने में लगभग 12-12 हजार रुपये खर्च किए गए हैं। रांची पहुंचने के बाद सभी प्रवासी मजदूरों को भोजन का पैकेट व बोतल बंद पानी उपलब्ध कराया गया। प्रवासी मजदूरों व छात्रों को बेंगलुरु से रांची व रांची से उनके घर तक पहुंचाने के लिए तकनीकी छात्र संघ के सदस्यों ने आर्थिक रूप से सहयोग किया था। आने वाले छात्रों ने सभी लोगों का आभार जताया। इनमें रितिक राज, अमित, रोहित कुमार, अरबाज खान, चंदन कौशिक, जागेश्वर पंडित, दीपक मांझी समेत कई छात्रों ने सहयोग किया।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस