रांची : दिव्यांग व्यक्ति भी समाज के अंग होते हैं। इन्हें समान नजरिया से देखने की जरुरत है। विकलांग व्यक्ति के साथ पूर्ण भागीदारी के बराबर अवसर व संरक्षण देना चाहिए। यह बातें अपर न्यायायुक्त राजीव आनंद ने कही। वे पैरा लीगल वोलेंटियर (पीएलवी) के पांच दिवसीय प्रशिक्षण सह ओरिएंटेशन कार्यक्रम के दूसरे दिन बुधवार को बोल रहे थे। कार्यक्रम सिविल कोर्ट परिसर में चल रहा है।

राजीव आनंद सहित कई प्रशिक्षकों ने पीएलवी को प्रशिक्षण दिया। प्रधान न्यायिक दंडाधिकारी राजीव त्रिपाठी ने किशोर न्याय बोर्ड में बच्चों का न्याय, देखभाल और सुरक्षा के बारे में जानकारी दी। साथ ही बाल विवाह निषेध अधिनियम के बारे में बताया। न्यायिक दंडाधिकारी तारकेश्वर दास ने बताया की पुलिस द्वारा किसी व्यक्ति को गिरफ्तार करने के लिए गिरफ्तारी वारंट का होना जरुरी है। साथ ही बताया कि पुलिस किन केसों में व्यक्ति को गिरफ्तार कर सकता है। इसके अलावा जेल के भीतर बंद कैदियों के अधिकार आदि के बारे में जानकारी पीएलवी को दी। किशोर न्याय बोर्ड के सदस्या भावना कुमार ने कहा कि बच्चों के साथ हमेशा दोस्ताना व्यवहार रखना चाहिए। उनके साथ प्यार की भावना रखना चाहिए। मारपीट या डांट-फटकार नहीं करना चाहिए। पैनल अधिवक्ता विजय लक्ष्मी श्रीवास्तव ने सरकार द्वारा चलाई जा रही कल्याणकारी योजनाओं के बारे में जानकारी दी। योजनाओं का लाभ दिलाने में पीएलवी की भूमिका पर प्रकाश डाला। विशेषज्ञ मध्यस्थ पंचानन सिंह ने असंगठित मजदूर के लिए सरकार द्वारा चलाई जा रही योजनाओं के बारे में बताया। अंतराष्ट्रीय मानवाधिकार संगठन अध्यक्ष राजेश सिंह ने मानव तस्करी के बारे में जानकारी दी।

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021