जागरण संवाददाता, रांची : राज्य पारा मेडिकल छात्र संघ ने रिम्स प्रबंधन एवं स्वास्थ्य विभाग पर छात्र-छात्राओं के भविष्य के साथ खिलवाड़ करने का आरोप लगाया है। संघ के संयोजक राजू कुमार महतो एवं अन्य छात्रों ने सोमवार को चेतावनी दी है कि यदि 15 दिनों के भीतर पारा मेडिकल स्कूल रिम्स को झारखंड राज्य पारा मेडिकल रांची को हस्तातरण नहीं किया गया तो संघ आंदोलन करेगा। उन्होंने कहा कि यदि 15 दिनों के अंदर प्रबंधन ने मांगों पर विचार नहीं किया तो सभी पारा मेडिकल छात्र हड़ताल पर चले जाएंगे। इससे रिम्स के नौ विभागों में कार्य प्रभावित होगा। सभी तरह की जांच एवं ऑपरेशन का काम प्रभावित होगा। उन्होंने संवाददाताओं को बताया कि रिम्स में पारा मेडिकल की पढ़ाई कर रहे छात्रों के लिए छात्रावास नहीं दिया गया गया। छात्राएं दूरदराज में निजी भाड़े के मकान में रहती हैं। रात में उन्हें आने-जाने में काफी परेशानी उठानी पड़ती है। पारा मेडिकल छात्रों के लिए दो साल से कॉलेज बनकर तैयार है। परंतु रिम्स प्रबंधन एवं स्वास्थ्य विभाग की लापरवाही के कारण इसका हस्तांतरण नहीं लिया जा रहा है।

उन्होंने कहा कि पारा मेडिकल छात्रों को 1500 मासिक स्टाइपेंड देना है। पर उन्हें नहीं दिया जाता। दूर-दूर से छात्र-छात्राएं बेहतर भविष्य की उम्मीद के साथ यहां पढ़ाई करने आती हैं, लेकिन यहां पहुंच कर उन्हें निराशा ही हाथ लगती है। यहां नियमित पढ़ाई नहीं होती। उन्होंने कहा कि राज्य के तीनों मेडिकल कॉलेजों में 12 वषरें से पारा मेडिकल का प्रशिक्षण दिया जा रहा है। पर अभी तक सरकारी स्तर से स्थायी बहाली नहीं ली गई है। उन्होंने कहा कि संघ की ओर से छात्र हित में समय-समय पर आंदोलन किया जाता रहा है। लेकिन आश्वासन के सिवा उन्हें कुछ भी हासिल नहीं हुआ है।

By Jagran