रांची : झारखंड विधानसभा में दोनों सीटों के लिए पर्याप्त संख्या बल न होने के बावजूद भाजपा वर्ष 2016 के राज्यसभा चुनाव में दोनों सीटें निकालने में कामयाब हो गई थी। इस बार भी भाजपा ने कुछ इसी रणनीति को आधार बना दूसरी सीट पर प्रत्याशी दिया है। विपक्ष का जरा सा बिखराव और द्वितीय वरीयता के वोट भाजपा की नैया पार लगा सकते हैं। राज्यसभा में दूसरी सीट के लिए किसी भी दल के पास पर्याप्त संख्या बल नहीं है। बता दें कि 81 की झारखंड विधानसभा में झामुमो के योगेंद्र प्रसाद की सदस्यता रद होने के बाद यह संख्या 80 हो गई है। दलगत स्थिति की बात करें तो भाजपा और उसके सहयोगी आजसू के पास कुल विधायकों की संख्या 47 है। एक सीट जीतने के लिए 27 वोट चाहिए। जाहिर है दूसरी सीट के लिए भाजपा के पास 20 विधायकों के वोट हैं, जबकि जीत के लिए 27 का आंकड़ा चाहिए। गीता कोड़ा और भानु प्रताप शाही भाजपा प्रत्याशियों के प्रस्तावक बने हैं। इनके वोट भी जोड़ लिए जाएं तो यह संख्या 22 पहुंच जाती है। जाहिर है कि दूसरी सीट के लिए भाजपा के पास 22 वोट तो तय हैं, दूसरे दलों के आधा दर्जन विधायकों पर नजर के साथ-साथ भाजपा को द्वितीय वरीयता के वोटों के गणित पर भी भरोसा है। विपक्ष के कुछ विधायकों की अनुपस्थिति भी भाजपा को लाभ पहुंचा सकती है। हालांकि विपक्ष यदि एकजुट रहता है और उसे अधिसंख्य विधायकों के वोट मिलते हैं तो भाजपा के लिए दूसरी सीट की राह मुश्किल होगी। झामुमो और कांग्रेस के पास फिलहाल 25 वोट हैं। झाविमो ने भी उसे समर्थन की घोषणा की है। इस लिहाज से कांग्रेस प्रत्याशी को जीत के लिए जो वोट चाहिए वह उसके पास है। मासस, माले और अन्य निर्दलीय वोट यदि उसे हासिल होते हैं तो उसकी राह और आसान हो सकती है। हालांकि पिछली बार भी यह गणित होते हुए झामुमो प्रत्याशी चुनाव हार गए थे। -------- जीत के लिए मतों का फार्मूला : - कुल वैध मतों की संख्या / (रिक्त हो रही सीटों की संख्या + 1) = आने वाली संख्या - इस स्थिति में यदि सभी विधायक अपने मतों का प्रयोग करते हैं तो स्थिति कुछ ऐसी होगी - 80 / (2 + 1) = 26.66 = 27 - स्पष्ट है कि सभी विधायक यदि अपने मत का प्रयोग करेंगे तो एक सीट पर जीत के लिए 27 मतों की जरूरत है। - लेकिन मतों के कम पड़ने या मत अवैध हो जाने पर यह संख्या घटती जाएगी। ------------ झारखंड विधानसभा की दलगत स्थिति : भाजपा : 43 झामुमो : 18 कांग्रेस : 07 आजसू : 04 झाविमो : 02 मासस : 01 माले : 01 बसपा : 01 नौजवान संघर्ष मोर्चा : 01 जय भारत समानता पार्टी : 01 झापा : 01 --------------