राज्य ब्यूरो, रांची। पुलिस मुख्यालय में गुरुवार को मेगा निश्शुल्क चिकित्सा शिविर का आयोजन किया गया। इस शिविर में 437 कर्मचारियों ने शारीरिक जांच करवाई। इनमें 30 फीसद पुलिसकर्मी घुटना व कमर दर्द के मरीज मिले। शिविर में डाक्टरी सलाह के साथ-साथ फिजियोथेरेपी व व्यायाम की जानकारी भी दी गई। बताया गया कि फिजियोथेरेपी व व्यायाम नहीं करने वाले, हरदम तनाव में रहने वाले, मधुमेह वाले मरीजों में इस तरह की बीमारियां होती है। इससे हड्डियां कमजोर होती है।

मां रामप्यारी अस्पताल ने इस शिविर का आयोजन किया था, जिसका उद्घाटन डीजीपी डीके पांडेय ने किया। शिविर में अस्पताल के मुख्य चिकित्सक डा. एसएन यादव ने बताया कि यह जांच शिविर हड्डियों की मजबूती पर आधारित था। इसमें स्वास्थ्य जागरूकता के साथ-साथ हड्डियों को मजबूत करने की दिशा में जागरूक करना था। हड्डी शरीर का स्टोर रूम होता है जो शरीर के मांसपेशियों तक कैल्शियम को पहुंचाता है। इसकी कमी से कमर दर्द, घुटने का दर्द होता है। यह बीमारी व्यायाम नहीं करने वाले व शुगर के मरीजों को होती है।

मौके पर एडीजी मुख्यालय पीआरके नायडू, एडीजी विशेष शाखा अनुराग गुप्ता, एडीजी अभियान आरके मल्लिक, एडीजी आधुनिकीकरण एवं प्रशिक्षण अनिल पालटा, आइजी प्रोविजन अरुण कुमार सिंह, आइजी कार्मिक शंभू ठाकुर, एआइजी टू डीजीपी शम्स तबरेज परिचारी अभिनव पाठक सहित कई पदाधिकारी व कर्मी मौजूद थे। डीजीपी ने अस्पताल प्रबंधन से पुलिस के सभी वाहिनी में ऐसे शिविर लगाने का अनुरोध किया। अस्पताल प्रबंधन की ओर से निदेशक डा. एसएन यादव, सीईओ माधुरी यादव, प्रशासक कमलेश कुमार, नीतेश कुमार, डा. अभिषेक, डा. दीपक व अस्पताल के कर्मियों ने शिविर का संचालन किया। शिविर में बोन मैट्रिक्स डेसिटोमेट्री मशीन से सभी पुलिसकर्मियों की जांच की गई तथा निश्शुल्क दवाइयां दी गई।

झारखंड की अन्य खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस