रांची : एचईसी को बचाने के लिए निबंधित सभी छह श्रम संघों की संयुक्त आम सभा बुधवार को कंपनी के मुख्यालय के सामने हुई। श्रम संघों के अध्यक्ष एवं महामंत्री राणा संग्राम सिंह ने सभा को संबोधित करते हुए कहा, एचईसी है तो हम सभी हैं। इसे बचाना हमारा उद्देश्य है। इसलिए एचईसी नगर का प्रत्येक व्यक्ति तथा विस्थापित परिवार से एक-एक पोस्टकार्ड एचईसी को बचाने के लिए प्रधानमंत्री को भेजा जाएगा। एक लाख पोस्टकार्ड पोस्ट किया जाएंगे, यह काम इसी महीने पूरा कर लिया जाएगा। पंडित जवाहरलाल नेहरू ने एचईसी की स्थापना देश के भीतर इस्पात उद्योग खड़ा करने के लिए की थी, लेकिन वर्तमान सरकार उसका विनिवेश कह रही है, जिसका यूनियन पूरजोर विरोध करेगा। राणा ने कहा कि एचईसी को बचाने और उसे बनाए रखने के साथ-साथ उत्पादन को भी बढ़ाना है। उन्होंने कहा कि इस माहौल में भी उत्पादन को घटने नहीं दिया जाएगा। उत्पादन वृद्धि उनकी लड़ाई का एक अधिकार है, जिसके माध्यम से एचईसी को बचाने में मदद मिलेगी। उन्होंने कहा कि आगे की रणनीति एवं कार्यक्रम की रूपरेखा तैयार करने के लिए 17 फरवरी को दोपहर तीन बजे कार्यालय में बैठक होगी। इस मौके पर लालदेव सिंह, भवन सिंह, कृष्णमोहन सिंह, जॉन मोहम्मद, रामकुमार नायक, इंगूरलाल, राजेंद्रकांत महतो, लीलाधर सिंह, आरएस यादव, एसजे मुखर्जी, कैलाशपति साहू, भुनेश्वर तिवारी सहित अन्य ने अपने संबोधन में एचईसी को बचाने और केंद्र सरकार की नीतियों का विरोध किया। मौके पर हटिया प्रोजेक्ट वर्कर्स यूनियन, हटिया कामगार यूनियन, हटिया मजदूर यूनियन, हटिया मजदूर लोक मंच, एचईसी लिमिटेड श्रमिक कर्मचारी यूनियन और जनता मजदूर यूनियन के प्रतिनिधि उपस्थित थे। पहली बार एक मंच पर दिखे एचईसी के निबंधित यूनियन इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ जब एक मंच पर एचईसी के सभी यूनियन दिखे। यह भी पहली बार हुआ जब किसी एक मुद्दे के लिए यूनियन के कार्यकर्ता एक स्वर में आवाज उठा रहे थे। इस बार एचईसी को बचाने के लिए सभी यूनियन एकजुट दिखें। उन्होंने यह भी कहा है कि अगर जरूरत पड़ेगी, तो दिल्ली तक भी जाएंगे।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस