रांची, जेएनएन। नक्सली बंद का झारखंड में मिलाजुला असर दिख रहा है। गिरिडीह के लेदा में नक्सलियों ने विस्फोट कर मोबाइल टावर उड़ा दिया। चाईबासा में नक्सलियों ने दस केन बम लगा रखे थे, जिन्हें पुलिस ने बरामद कर लिया है। 

सिमडेगा, लातेहार व चतरा में बंद का व्यापक असर दिखा। यहां वाहनों के पहिए थम गए। व्यवसायिक प्रतिष्ठान बंद रहे। पलामू में बंद का मिलाजुला असर रहा। गढ़वा से लंबी दूरी की बसें नहीं चली, इस कारण यात्रियों को परेशानी का सामना करना पड़ा।

खूंटी में बंदी का मिलाजुला असर देखने को मिला। हालांकि खूंटी के शहरी क्षेत्रों में बंदी का असर पूरी तरह विफल दिखा।वर्षों बाद खूंटी में बंदी में अधिकांश दुकानें खुली दिखीं।

हजारीबाग, रामगढ़, कोडरमा में बंद का असर नहीं दिखा। खलारी व पिपरवार में बंद के चलते कोयला ढुलाई ठप रही। पुलिस अभियान के विरोध में नक्सलियों ने 20 दिसंबर को एकदिवसीय बंद का एलान किया है। 

एहतियातन ट्रेनों की रफ्तार घटाई गई है। सुरक्षा को लेकर अलर्ट जारी किया गया है। चतरा में माओवादी बंदी का व्यापक असर है। यहां वाहनों का परिचालन नहीं हो रहा है। सुदूरवर्ती व घोर नक्सल प्रभावित प्रखंडों में बैंक की शाखाओं और स्कूलों में ताले लटके हैं। सिमडेगा में भी बंद का व्यापक असर है। यहां वाहनों के पहिए थम गए हैं, व्यवसायिक प्रतिष्ठान भी बंद हैं। रांची, पलामू, गढ़वा, लातेहार, लोहरदगा व गुमला में भी असर दिख रहा है। बंद के चलते वाहनों के आवागमन व खनिज ढुलाई पर प्रभाव पड़ रहा है। 

 

जानकारी के मुताबिक, झारखंड बंद की अवधि शुरू होने से करीब ढाई घंटे पूर्व मंगलवार की रात साढ़े नौ बजे हथियारबंद नक्सलियों ने गिरिडीह में बजटो पंचायत के मिर्जाडीह गांव में विस्फोट कर एयरटेल कंपनी का मोबाइल टावर उड़ा दिया। घटनास्थल पर नक्सलियों ने हस्तलिखित पर्चा भी छोड़ा है। बूढ़ा पहाड़ी में गोलाबारी के खिलाफ बंदी का आह्वान करने की बात कही है। घटनास्थल गिरिडीह जिला मुख्यालय से करीब 30 किलोमीटर दूर है। यह मुफस्सिल थाना क्षेत्र में पड़ता है। सुबह करीब 9 बजे मुफस्सिल थाना प्रभारी मौके पर पहुंचे।

 

कोयला ट्रांसपोर्टिंग प्रभावित

बेरमो के तीन कोयला प्रक्षेत्रों में मंगलवार की रात 12 बजे के बाद  से कोयला ट्रांसपोर्टिंग ठप पड़ गई है। रात 12 बजे के बाद पॉवर प्लांटों में रोड ट्रांसपोर्टिंग के लिए परियोजनाओं के कांटा घरों में डंपरों और ट्रकों की कतार लग गई। नक्सलियों के आहूत बंद का बाजार पर कोई खास असर नहीं दिखा।

इधर, मंगलवार की रात उपरघाट क्षेत्र में नक्सलियों ने कई स्थानों में पोस्टरबाजी कर सनसनी फैलाने की कोशिश की। बंदी के दौरान अब तक किसी बड़ी वारदात की सूचना नहीं है। उपरघाट के कई गांवों व चौक चौराहों पर नक्सलियों ने पोस्टर लगाए हैं। 

नक्सलियों ने मसुदन स्टेशन का पैनल फूंका, ट्रेनें थमीं

किऊल-भागलपुर रेलखंड पर अभयपुर और धरहरा स्टेशनों के बीच मसुदन स्टेशन के पैनल में नक्सलियों ने देर रात करीब 1.30 बजे आग लगा दी। 20 दिसंबर को बिहार-झारखंड बंद को लेकर नक्सलियों ने इस घटना को अंजाम दिया। इसके कारण इस रेलखंड पर परिचालनके सबसे संवेदनशील भलुई हॉल्ट पर करीब दो बजे सीआरपीएफ एवं बीएमपी जवानों को तैनात किया गया। नक्सली इस हॉल्ट को हमेशा निशाने पर लेते रहे हैं। अंतिम समाचार मिलने तक रात करीब 2.30 बजे ट्रेन चालक व गार्ड तथा सहायक स्टेशन मास्टर को नक्सलियों ने बंधक बना रखा था।

मंगलवार मध्य रात्रि से ही ट्रेनों की गति सीमित कर दी गई है। नक्सल प्रभावित रेलखंडों के रेलवे स्टेशन, पुल-पुलिया, रेलवे टै्रक व शस्त्रागार पर विध्वंसक कार्रवाई के मद्देनजर सुरक्षा के पुख्ता बंदोबस्त किए गए हैं। स्टेशन प्रबंधक, चालक व गार्ड व टै्रक पेट्रोलिंग करने वाले कर्मचारियों को एहतियात बरतने का निर्देश दिया गया है। किसी भी घटना की सूचना तत्काल कंट्रोल को उपलब्ध कराने की व्यवस्था की गई है।

अत्यधिक नक्सल प्रभावित रेलखंड-

निमियाघाट से चिचाकी-गझंडी से पहाड़पुर-गोमिया से करमाहाट-टोकीसूद से बरवाडीह

माओवादियो ने पुल निर्माण कार्य पर लगाया ब्रेक

कान्हाचट्टी के राजपुर थाना क्षेत्र के तुलबुल पंचायत के राजघाट स्थित गहरी नदी में हो रहे पुल निर्माण कार्य को माओवादियो ने रोक लगा दी है। इस क्रम में उग्रवादियो ने मजदूरो को पीटा और मोटरसाइकिल एवं मोबाइल छीन लिया।

मंगलवार को लगभग 11:00 बजे तकरीबन 12 से 15 वर्दीधारी उग्रवादी हथियार से लैस होकर राजघाट स्थित गहरी नदी पहुंचे और वहां पर पुल निर्माण कार्य में लगे मजदूरो को काम रोकने का फरमान जारी करते हुए उनकी पिटाई शुरू कर दी। इस क्रम में माओवादियो ने टंडवा थाना क्षेत्र के लोहडी गांव निवासी सेट्रीग मिस्त्री प्रमोद मेहता के साथ भी मारपीट की।

रांची निवासी मधुसूदन सिंह का मोटरसाइकिल तथा गुड्डू कुमार शर्मा का दो मोबाइल लेकर चलते बने। जाते वक्त माओवादियो ने मजदूरो से कहा कि बगैर अनुमति काम शुरू करने पर गंभीर परिणाम भुगताना पड़ सकता है। माओवादियो की इस कार्रवाई से पुल निर्माण कार्य में लगे मजदूर व मुंशी डरे व सहमे हुए हैं। प्रमोद कुमार मेहता राजपुर थाना पहुंचकर घटना की जानकारी दी। प्रमोद मेहता तथा गुड्डू शर्मा के लिखित आवेदन पर अज्ञात माओवादी के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज कर ली गई है। इधर थाना प्रभारी सुनील कुमार ने बताया कि इस बाबत मामला दर्ज कर लिया गया है।

सनी कंस्ट्रक्शन करा रहा पुल निर्माण कार्य

कान्हाचट्टी के राजपुर थाना क्षेत्र के राज घाट स्थित गहरी नदी पर कराये जा रहे पुल निर्माण कार्य सनी कंस्ट्रक्शन के द्वारा ग्रामीण विकास अभिकरण के तत्वाधान में कराया जा रहा है। बताते चलें की संवेदक दामोदर सोनी गढ़वा का रहने वाला है।

तीन वर्ष पूर्व पुल निर्माण का कार्य प्रारंभ किया गया था। जबकि संवेदक को दो वर्षों के अंदर पुल निर्माण कार्य को पूरा किया जाना था।। लेकिन संवेदक की उदासीनता के कारण अब तक पुल निर्माण कार्य धीमी गति से कराई जा रही है । इसके पूर्व भी न्यू एस पी एम व अन्य संगठनो द्वारा पुल निर्माण कार्य को रोका गया था।

यह भी पढ़ेंः बोकारो में 105 उद्योगों की नींव रखेंगे सीएम रघुवर दास

 

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021