पिठोरिया : डा. बीपी केशरी द्वारा संपादित 'नागपुरी कवि और उनका काव्य' (1600-2000 ई.) का गुरुवार को महाशिवरात्रि के पावन बेला में नागपुरी संस्थान पिठोरिया द्वारा विमोचन कराया गया। इसमें कुल 248 कवियों और उनकी चयनित रचनाओं को शामिल किया गया है। डा. केशरी ने नागपुरी कवि और उनकी रचनाओं के संकलन का कार्य 1951 ई. में प्रारम्भ किया। 61 वर्ष के प्रयास के पश्चात इस ग्रंथ को प्रकाशन के लिए भेजा गया। इसकी रचना में डा. केशरी ने 650 कवियों व उनके द्वारा रचित लगभग 35 हजार नागपुरी गीतों के अलावे हजारों नागपुरी पत्र-पत्रिकाओं से संदर्भ लिया है। उन्होंने कहा कि हमारा सौभाग्य है कि नागपुरी में शोध की एक स्वस्थ परंपरा विकसित हो चुकी है। परवर्ती शोधों से इन बिन्दुओंपर प्रकाश पड़ेगा। नागपुरी कवि व उनका काव्य इसके लिए प्रारंभिक आधार प्रस्तुत करता है।