संवाद सहयोगी, रामगढ़ : चितरपुर अंचलाधिकारी तृप्ति विजया कुजूर ने रामगढ़ एसटी, एससी थाने में दो लोगों के विरुद्ध प्राथमिकी दर्ज कराई है। अंचलाधिकारी ने दर्ज प्राथमिकी में चितरपुर निवासी मजहर आलम व फिरोज आलम पर आरोप लगाते हुए कहा है कि सीसीएल अधिग्रहित भूमि को जबरन फर्जी कागजात देकर अपने नाम पर प्रविष्टि कराने के लिए दबाव दिया गया। अपने पहुंच, पैरवी व पद का हवाला देते हुए महादेव प्रसाद सुकरीगढ़ा चितरपुर निवासी की विवादित भूमि के ऑनलाइन प्रविष्टि के लिए उन्हें धमकाया गया। बार-बार षड्यंत्र रच कर मुझे पर भ्रष्टाचार का झूठा आरोप लगाया गया तथा तबादले की धमकी दी गई। बीते नौ नवंबर 2021 को महादेव प्रसाद द्वारा अंचल कक्ष में घुस कर घंटों खड़े रहकर सरकारी कार्यों में बाधा डाला गया। साथ ही ऑडियो रिकॉर्डिंग भी हमारी की। वहीं बीते 17 नवंबर 2021 को पंचायत भवन में आयोजित आपके अधिकार आपके सरकार कार्यक्रम में फिरोज व महादेव उपस्थित थे। कार्यक्रम समाप्त होने के बाद लौटने के क्रम में रजरप्पा मार्ग पर शाम के करीब छह बजे मेरी सरकारी गाड़ी रोककर गाली, गलौज किया। कहा कि आदिवासी हो निम्न जाति से हो इसलिए सीओ बन गई नहीं तो तुम चपरासी के लायक भी नहीं हो। हमको तो तुम्हारी योग्यता पर भी शक है। अभी तक तुम्हारा माथा नहीं घूमा है। साथ ही जातिसूचक शब्दों का इस्तेमाल किया और दोनों मिलकर बोला कि कल तक तुम मेरा काम कर देना नहीं तो अंजाम बहुत ही बुरा होगा। इसकी तुम कल्पना भी नहीं कर सकती हो। उक्त रिकॉर्डिंग की छेड़छाड़ कर अपलोड किया तथा फर्जी ऑडियो वीडियो बनाया और एक चैनल में अपलोड किया। जिससे मेरी छवि धूमिल हुई। इनके इन सभी कार्यों से मैं भय तथा मानसिक दबाव में हूं तथा मेरी जान को भी खतरा है। सीओ ने दिए आवेदन में कार्रवाई करने की मांग कर परिवार की जान माल की सुरक्षा की गुहार लगाई है।

Edited By: Jagran