दिलीप कुमार सिंह, रामगढ़ : जिले का एक मात्र अंगीभूत महाविद्यालय रामगढ़ कालेज का अब कायाकल्प होने वाला है। यहां कई विभाग खुलेंगे। इससे यहां के छात्रों का भविष्य संवरेगा। अब यहां पर आने वाले समय में उच्च डिग्री सहित बहुउद्देशीय पढ़ाई की व्यवस्था अब होने जा रही है। साथ ही मल्टीडिसिप्लिनरी रिसर्च इंटेंसिव हायर एजुकेशन बहुउद्देशीय संस्थान के नाम से कालेज अपनी पहचान बनाएगा। यहां पर इंटर के साथ तीनों संकाय, एमए, एम कॉम आदि की पढ़ाई संचालित है। साथ ही कई वोकेशनल कोर्स चलता है। इसे व्यापक रूप देने के लिए तैयारी हो रही है। अगर सब कुछ ठीक-ठाक रहा तो आने वाले वर्ष में यह तमगा रामगढ़ कालेज को मिल जाएगा। इसकी तैयारी शुरू हो गई है। योजना को धरातल पर उतारने के लिए बोर्ड ऑफ गवनर्स, पीएमयू ( प्रोजेक्ट मैनेजर यूनिट) रूसा सेल एवं आइक्यूएसी (इंटरनल कोटेंट असिस्मेंट सेल) की बैठक कर लिया गया है। साथ ही यह अहम निर्णय भी ले लिया गया है। अपने नाम के अनुरुप कालेज अब और ऊंचाइयों को छुएगा। सनद रहे की यहां के बच्चे उच्च शिक्षा ग्रहण करने के लिए अन्य राज्यों का रूख करते थे। इससे उन्हें कई परेशानियों का सामना करना पड़ता था। साथ ही उनके माता-पिता चितित रहते थे। बहुउद्देशीय संस्थान में विद्यार्थियों को झारखंड की कला कृति सहित स्वदेशी पाठ्यक्रमों की भी पढ़ाई के साथ पूर्ण जानकारी दी जाएगी।

-----------

व्यक्तित्व विकास के लिए होंगे कई पाठ्यक्रम

कालेज में छात्र-छात्राओं का पढ़ाई के माध्यम से व्यक्तित्व विकास भी किया जाएगा। कालेज में झारखंड की संस्कृति व स्वदेशी वस्तुओं को बढ़ावा दिया जाएगा। कई नए विभाग यथा गृहविज्ञान, समाजशास्त्र, भूगोल, सगीत, भूगर्भशास्त्र, बॉयोटेक्नोलाजी, इंटीग्रेटेड बीएड चार वर्षीय कोर्स, लॉ कालेज, कौशल विकास के लिए डोकरा आर्ट, सोहराय आर्ट, हैंडीक्राफ्ट, पोटरी, फिशरी, अप्लायड साइंस आदि विभिन्न विषयों की पढ़ाई के लिए विभाग खोला जाएगा।

----------

भवन निर्माण एवं नए परिसर का निर्माण, अलग संसाधन युक्त प्रशासनिक भवन, एससी, एसटी छात्रावास, छात्र-छात्राओं के लिए अलग कॉमन रूम, ऑडिटोरियम भवन, इनडोर स्पो‌र्ट्स ऑडिटोरियम आदि का प्रस्ताव तैयार किया गया है। संस्थागत विकास संबधी प्रारूप का प्रस्ताव तैयार कर लिया गया है। कालेज को आगामी वर्षों में मल्टीडिसिप्लिनरी रिसर्च इंटेंसिव हायर एजुकेशन बहुउद्देशीय संस्थान के रूप में विकसित करने की दिशा में बढ़ने का सर्वसम्मति से निर्णय लिया गया है। इसके लिए सभी का सहयोग भी जरूरी होगा।

-डा. मिथिलेश कुमार सिह।

प्राचार्य, रामगढ़ महाविद्यालय।

Edited By: Jagran