संवाद सूत्र, गिद्दी (रामगढ़) : गिद्दी बस्ती के मूल रैयतों का आंदोलन चौथे दिन गुरुवार को भी गिद्दी परियोजना का उत्पादन तथा ट्रांसपोर्टिंग कार्य ठप कर रखा है। इस दौरान रैयत खदान के पास जमे हुए हैं और सीसीएल प्रबंधन से उनके जमीन का 35 साल तक उपयोग करने के एवज में जमीन का रेंट देने की मांग को लेकर प्रबंधन के विरोध में नारेबाजी कर आंदोलन को धार दे रहे हैं। रैयतों का कहना है कि गिद्दी प्रबंधन रैयतों की 4.26 एकड़ जमीन का उपयोग कर रही है। प्रबंधन से जमीन का रैंट देने की मांग लंबे समय से की जा रही है। परंतु कोई पहल नहीं होता देख आंदोलन पर जाना पड़ा। इसी बीच सीसीएल प्रबंधन द्वारा रैयतों के जायज मांगों पर बिना विचार किए दमनात्मक कार्रवाई की है। इसका मूल रैयत कड़े शब्दों में निदा करती है। कहा कि वे अपने हक को लेने के लिए पीछे नहीं हटेंगे। कहा कि 30 सितंबर 2019 का मुख्यमंत्री जनसंवाद में रैयती जमीन बचाने को लेकर शिकायत दर्ज कराई थी। इसमें सीसीएल द्वारा नाजायज रूप से बिना जमीन अधिग्रहण किए उपयोग करने की बात कही गई थी। बताते हैं कि सोमवार की सुबह में मुल रैयत गिद्दी बस्ती के लोगों ने गिद्दी परियोजना का उत्पादन व ट्रांसपोर्टिंग कार्य अनिश्चितकालीन के लिए बंद कर दिया। बाद में प्रशासन के दवाब के कारण उत्पादन चालू हुई। परंतु बड़कागांव विधायक अंबा प्रसाद के रैयतों के पक्ष में आ खड़ा होने के बाद रैयतों को बल मिला और रैयत गिद्दी परियोजना के भीव प्वाइंट के पास हॉलरोड को जाम कर टेंट लगाकर बैठ गए। इसके बाद गिद्दी पीओ के लिखित शिकायत पर गिद्दी थाना पुलिस ने गिद्दी बस्ती के भीम साव, संतोष करमाली, शंकर करमाली, प्रभु साव, सरजु साव, बिरजु साव समेत अज्ञात 100 लोगों के विरूद्ध कांड संख्या 53/21 के तहत मामला दर्ज कर लिया है। समाचार लिखे जाने तक रैयतों का आंदोलन जारी रहने से उत्पादन ठप था। उत्पादन ठप कराने वालों में संतोष करामली, भीम साव, सरजू साव, तालेश्वर साव, विनय साव, राजन साव, राजेश साव, मनोज साव, राजू साव, महजु साव, सुगेश्वर साव, अर्जुन साव, शंकर करमाली, महेश साव, रोहित करमाली, महाबीर करमाली, चंदन साव, फुलमनी देवी, भानु देवी, बसंती देवी, आरती देवी, सुमा देवी, बेबी देवी, सुनिता देवी, सविता देवी, धनेश्वरी देवी, जुली देवी, मंजू देवी, चिता देवी, मुकेश करमाली, बेबी देवी, सरलू साव, रेखा देवी, पूनम देवी आदि शामिल हैं।

Edited By: Jagran