लीड----------

कार्याकल्प योजना के तहत सही तरीके और अधूरे कार्यो को लेकर हुआ हंगामा,

संवाद सूत्र गिद्दी(रामगढ़) : गिद्दी एसओएम कार्यालय में मंगलवार को कायाकल्प कार्य में बरती जा रही अनियमितता को दूर करने के लिए प्रबंधन, एनसीओइए यूनियन व संवेदक के बीच हुई वार्ता काफी हंगामेदार रही। वार्ता में सीसीएल सेफ्टी बोर्ड के सदस्य अरूण सिंह ने कायाकल्प के संवेदक विकास सिंह पर गिद्दी में करीब चार साल में काम पूरा नहीं करने व जो कार्य किया गया है। उसमें भारी अनियमितता बरते जाने का आरोप लगाया। अरूण सिंह ने कहा कि संवेदक द्वारा आज तक किसी भी कर्मी का समय पर कार्य पूरा नहीं किया है। कर्मी के आवास में काम लगाने के बाद तोड़-फोड़ कर काम छोड़ दिया जाता है। कई कर्मियों के तो बाथरूम व शौचालय को तोड़ कर एक-दो माह बीत जाने के बाद भी बाथरूम व शौचालय का काम पूरा नहीं किया है। इससे कर्मियों के घरों में रहने वाले सबसे ज्यादा महिलाओं को काफी परेशानी हो रही है। इसके अलावे संवेदक ने छत पर एपीपी का जो काम किया गया है। वह काफी घटिया है। कर्मियों के आवास में पानी टपक रहा है। अरूण सिंह ने कहा कि संवेदक बीते चार साल से कर्मियों के लिए भगवान हो गए हैं। इस पर संवेदक विकास सिंह भड़क गए और यूनियन नेताओं पर नेतागिरी करने की बात कह दी। इतने पर यूनियन नेताओं ने आक्रोशित होकर संवेदक के बात पर आपति जताते हुए विरोध करने लगे और प्रबंधन से संवेदक को टर्मिनेट करने की मांग करने लगे। बाद में गिद्दी कोलियरी मैनेजर आरके सिन्हा ने मामले को शांत कराते हुए संवदेक को एक माह के अंदर लंबित क्वार्टर का कार्य पूरा करने का निर्देश दिया। साथ ही सिविल विभाग के ओवरसियर रघुनाथ मरांडी को कायाकल्प का कार्य सही ढंग से मॉनिटिरिग करने का भी निर्देश दिया। वार्ता में प्रबंधन की ओर से मैनेजर आरके सिन्हा, विद्युत अभियंता सिकंदर कुमार, सीविल इंजीनियर अभिरूप अदरियान, ओवरसीयर रघुनाथ मरांडी,यूनियन नेताओं में अरूण सिंह, देवनाथ महली, रविद्र मिस्त्री, राजेश गुप्ता, चंदन सिंह, एनुल होदा अंसारी, किशुन राम, संतोष दास, कुलदीप, नंदु, बिपीन कुमार, संवेदक विकास सिंह, आदि उपस्थित थे।

Edited By: Jagran