रामगढ़ : छावनी परिषद की मासिक बोर्ड बैठक बुधवार को परिषद के सभाकक्ष में छावनी अध्यक्ष ब्रिगेडियर संजीव सोनी की अध्यक्षता में हुई। बोर्ड की बैठक में 11 एजेंडा व एक टेबल एजेंडा रखी गई थी। चर्चा के दौरान वार्ड सदस्यों ने कई मुद्दों पर आपत्ति प्रकट की। वार्ड सदस्य परिषद के कामकाज से संतुष्ट नहीं थे। इसके कारण दो-तीन एजेंडों पर फिर से विचार करने के साथ-साथ कई महत्वपूर्ण विषयों पर चर्चा करने के लिए 15 सितंबर, शनिवार को विशेष बोर्ड बैठक करने का निर्णय लिया गया। विशेष बोर्ड बैठक में सीईओ सपन कुमार द्वारा प्रेजेंटेशन के माध्यम से परिषद के कार्यों को रखा जाएगा। बोर्ड ने परिषद के मासिक आय-व्यय का ब्यौरा को पास कर दिया। मिलिट्री एरिया में लेबर सप्लाई का ठेका संवेदक राजेश कुमार शर्मा के प्रस्ताव को मंजूरी दे दी। मकान बनाने के कुल 66 आवेदित नक्शे को पास करते हुए एक नक्शे का समय अवधि बढ़ाई गई। छावनी परिषद कार्यालय व अस्पताल भवन में सोलर पैनल सिस्टम लगाने के प्रस्ताव को भी मंजूरी दे दी गई। दोनों भवनों में प्रति किलोवाट 98 हजार रुपये की दर पर कुल 30 किलोवाट का सोलर पैनल सिस्टम दिल्ली की ईसी टेलीकॉम प्राइवेट लि. कंपनी लगाएगी। वहीं परिषद के इलेक्ट्रिल गुड्स सप्लाई करने के लिए न्यूनतम दर भरने वाली सिसका एलईडी कंपनी को अधिकृत करने के प्रस्ताव को भी मंजूरी दी गई। सात स्कूल के प्रधानाध्यापकों को पदोन्नति देने का मामला विशेष बोर्ड बैठक में रखने का निर्णय लिया गया। इसके अलावा शहर में भवनों के कर निर्धारण के लिए सर्वे कर रही निजी एजेंसी के काम-काज के आकलन करने का मुददा भी विशेष बोर्ड बैठक में ही रखा गया। सीए गोयल एंड पारूल के अनुबंध को एक साल के लिए बढ़ाई गई। वहीं परिषद के सेवानिवृत कर्मियों का डीआर रिलीफ को दो प्रतिशत बढ़ा दिया गया। अब सेवानिवृत कर्मियों को सात प्रतिशत डीआर रिलीफ का लाभ मिलेगा। टेबल एजेंडा में शहरी क्षेत्र के भवनों में बेसेमेंट बनाने के लिए अनुमति देने का प्रस्ताव रखा गया था। इसे स्वीकृति के लिए कमांड में भेजे जाने का प्रस्ताव पारित किया गया। बैठक का संचालन सीईओ सपन कुमार ने किया।

Posted By: Jagran