गिद्दी (रामगढ़) : एनसीओइए अरगडा एरिया सचिव अरुण कुमार ¨सह के नेतृत्व में रेलीगढ़ा वर्कशॉप मजदूरों ने वेतन भुगतान में देरी होने के विरोध में बुधवार की सुबह आठ बजे से एक्सकावेशन का कामकाज ठप कर दिया। इस दौरान मजदूर वर्कशॉप का गेट बंद कर प्रबंधन के विरोध में जमकर नारेबाजी करने लगे। कामकाज ठप होने की सूचना पाकर ऑपरेटर संघ के सदस्य भी मजदूरों के समर्थन में उतर गए। बाद में पीओ उमेश शर्मा, प्रोजेक्ट मैनेजर एसके सिन्हा, मैनेजर कार्मिक संजीव सिन्हा ने दोपहर दो बजे तक मजदूरों के खाता में पैसा चले जाने व प्रत्येक माह की दो तारीख का मजदूरों का वेतन भुगतान करने का आश्वासन दिया। इसके बाद दोपहर साढ़े ग्यारह बजे मजदूर काम पर वापस लौट गए। मजदूरों ने बताया कि 15 तारीख हो गया है। परंतु अभी तक मजदूरों का वेतन बैंक में नहीं गया है। जबकि प्रबंधन ने होली के पहले वेतन भुगतान करा देने की बात कही थी। मजदूरों के पास पैसा नहीं होने के कारण होली फीकी गुजरी है। रेलीगढ़ा प्रबंधन मजदूरों के वेतन भुगतान कराने के प्रति उदासीन है। प्रबंधन हमेशा दो तारीख तक वेतन भुगतान कराने की बात कहता है। परंतु कभी भी समय पर मजदूरों को वेतन भुगतान नहीं करता है। मजदूरों ने कहा कि प्रबंधन ने प्रतिमाह दो तारीख तक वेतन भुगतान कराने का आश्वासन दिया है। अगर ऐसा नहीं होती है तो मजदूर परियोजना का उत्पाद ठप कर देंगे। कामकाज ठप कराने वालों में एनसीओइए नेता अरुण कुमार ¨सह, जगेशर राम, भगवान गोप, बैजनाथ यादव, अनिल बेदिया, दिगविजय कुमार, बिहारी लाल, महेंद्र कुमार, आनंद, महेश सोरेन, सुशील कुमार, हेमंत सोरेन, अख्तर अली, गौरंग पोलाई, राजा राम मांझी, मुबारक अंसारी, मोहन बेदिया, घनश्याम मंडल, सुनील बेदिया, शंभु कुमार, संजू साव, गोपाल प्रसाद, गुरबीन दास, अमरीक ¨सह, नरेश शर्मा, महादेव मांझी आदि मजदूर व ऑपरेटर शामिल थे।

---

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप