मेदिनीनगर : शिक्षा व जागरूकता से देश महान बनेगा। नेक सोच व ईमानदारी से काम करने से बेहतर परिणाम मिलेंगे। उक्त बातें पलामू के उपायुक्त अमीत कुमार ने कही। वे मंगलवार को स्थानीय जिला स्कूल के सभागार में शिक्षा परियोजना के तहत विद्यालय चलें चलाएं अभियान 2018 को सफल बनाने को लेकर आयोजित जिला स्तरीय बैठक सह कार्यशाला को बतौर मुख्य अतिथि संबोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि प्राय:अभियान अवधि में खूब जोश देखा जाता है। बाद में यह ठंडा हो जाता है। डीसी ने जोश बनाये रखने का आह्वान किया। कहा कि यह कार्यक्रम सिर्फ योजना नहीं बल्कि अभियान है। अभियान को सफल बनाने में अभिभावकों व स्थानीय प्रतिनिधियों की सहभागिता जरूरी है। ऐसे लोगों की अभियान में सहभागिता सुनिश्चित कराएं।

उन्होंने नीति आयोग के इंडिकेटर्स का जिक्र किया। कहा कि इसी के आधार पर उपलब्धियों का आंकलन किया जाएगा। इसलिए नामांकन में डुपलीकेसी एवं विद्यालय विलय के बाद बच्चों की शि¨फ्टग के प्रति सजग व सावधान रहें। इससे पूर्व पलामू के उपायुक्त अमीत कुमार,आरडीडीई रामयतन राम, जिला शिक्षा पदाधिकारी सह नोडल पदाधिकारी अरूणा नाथ व डीएसई सुशील कुमार ने दीप प्रज्वलितकर संयुक्त रूप से उक्त कार्यशाला का उद्घाटन किया।

कार्यक्रम की अध्यक्षता पलामू जिला शिक्षा अधीक्षक सुशील कुमार ने किया। संचालन शिक्षक परशुराम तिवारी ने किया। कस्तूरबा गांधी आवासीय विद्यालय लेस्लीगंज की छात्राओं ने स्वागत गान व अभियान गीत गाकर माहौल को अनुकूल बना दिया। मौके पर आरडीडीई रामयतन राम ने कहा कि अभियान को सफल बनाने के लिए आप लोग सभी समुदाय को अभियान से जोड़ें। कहा कि हमारा लक्ष्य नामांकन के साथ बच्चों का ठहराव व गुणवत्तापूर्ण शिक्षा देना है। उन्होंने जिला में चल रहे शिक्षक प्रशिक्षण को गंभीरता से लेने को कहा। कहा कि सरकार कि हर कोशिश बच्चों के लिए है। उन्होंने कहा कि यह सुनिश्चित होना चाहिए कि कक्षा पांच के बच्चों का नामांकन कक्षा छह में, कक्षा आठ के बच्चों का नामांकन कक्षा नवम में व कक्षा दस के बच्चों का नामांकन कक्षा 11वीं में हो। पलामू की डीईओ अरूणा नाथ ने बताया कि हमारा लक्ष्य प्रत्येक बच्चा है। इस अभियान से यह सुनिश्चित करना है कि बिना भेदभाव के सबको शिक्षा मिले। बालिका शिक्षा के लिए हमें पहले पढ़ाई फिर विदाई को अमल मे लाना चाहिए।

इसके पूर्व डीएसई सुशील कुमार ने अतिथियों का स्वागत किया। साथ ही विषय वस्तु पर विस्तार से प्रकाश डाला। उन्होंने बताया कि अब यह अभियान समग्र शिक्षा अभियान के नाम से जाना जाएगा। इसके तहत पांच वर्ष से 18 वर्ष के बच्चे टारगेट ग्रुप में होंगे। उन्होंने कहा कि विद्यालय चले चलाएं अभियान को 20 जून 2018 से 30 जून 2018 तक चलाया जाएगा। उन्होंने प्रत्येक कार्यक्रम की बिंदुवार जानकारी दी। साथ ही आगाह किया कि कोताही बरतने पर कार्रवाई की जा सकती है। एडीपीओ संजय कापरी ने पूर्व अनुभवों को साझा किया। कार्यक्रम को सफल बनाने में एपीओ चंद्रदीप राम, जिला लेखा पदाधिकारी विवेक कुमार,अभियान कर्मी राजीव चौबे, आमोद कुमार व श्याम किशोर ¨सह उर्फ चीना ¨सह आदि ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। कार्यशाला में क्षेत्र शिक्षा पदाधिकारी, बीईईओ, बीपीओ, सीआरपी, जिला परिवर्तन दल के सदस्यों ने भाग लिया।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप