संवाद सहयोगी, मेदिनीनगर (पलामू ) : भारतीय राष्ट्रीय मजदूर कांग्रेस की पहल पर जिला प्रशासन के साथ हुए लिखित समझौते के बाद शुक्रवार को झारखंड खान मजदूर सभा के तत्वाधान में जारी अनिश्चितकालीन धरना चौथे दिन समाप्त हो गया। इससे पहले इंटक अध्यक्ष कृष्णानंद त्रिपाठी ने उपायुक्त से मुलाकात कर मजदूरों की मांगों की जानकारी दी। उपायुक्त ने बताया कि मजदूरों को काम उपलब्ध कराने के लिए जिला खनन पदाधिकारी के माध्यम से लिखित आश्वासन दिया जा रहा था। पूर्व मंत्री ने मजदूरों को बताया कि उपायुक्त ने जिला खनन पदाधिकारी के माध्यम से मजदूरों की मांगों पर लिखित आश्वासन दिया है। एक सप्ताह के अंदर सीसीएल व हिडाल्को कोल माइंस में रोजगार दिया जाएगा। वहीं, मजदूरों के बकाया राशि भुगतान पर भी सभी कानूनी पहलुओं पर विचार करने के साथ जल्द समाधान किया जाएगा। इसके बाद मजदूरों ने धरना समाप्त कर दिया।

दो सदस्यीय टीम करेगी धावा व काचन खदानों की जांच संवाद सहयोगी, मेदिनीनगर (पलामू) :

भारतीय प्रशासनिक सेवा के प्रशिक्षु अधिकारी दिलीप सिंह शेखावत व जिला खनन पदाधिकारी संजीच कुमार रामगढ़ थाना क्षेत्र के काचन व धावा पत्थर खदानों का भौतिक सत्यापन करेंगे। उपायुक्त शशि रंजन के इस आश्वासन के बाद शुक्रवार को पलामू इंटक का एक दिवसीय धरना समाप्त हो गया। इससे पहले इंटक के राष्ट्रीय अध्यक्ष कृष्णानंद त्रिपाठी व पलामू जिलाध्यक्ष राम प्रवेश सिंह ने उपायुक्त से मिल कर एक ज्ञापन सौंपा। इसमें काचन का खनन पट्टा रद करने व धावा खदान की जांच करने की मांग की गई थी। पूर्व मंत्री ने बताया कि पहले भी इस मामले को लेकर इंटक द्वारा धरना एवं प्रदर्शन किया गया था। लेकिन जांच के नाम पर सिर्फ औपचारिकता बरती गई थी। काचन में जहां सरना स्थल पर ही लीज दे दी दी गई वहीं धावा में खनन के दौरान एनजीटी के निर्देशों का खुलेआम उल्लंघन किया जा रहा है। त्रिपाठी ने कहा कि 31 मार्च तक ठोस कार्रवाई नहीं किए जाने पर अनिश्चित कालीन धरना आरंभ किया जाएगा।