लीड------------

जमीन के बदले उचित मुआवजा नहीं देने का लगाया आरोप, किया हंगामा फोटो : 23 डालपी 16

कैप्शन :हरिहरगंज प्रखंड सह अंचल कार्यालय परिसर के बाहर प्रदर्शन करते रैयत किसान। संवाद सूत्र, हरिहरगंज(पलामू): हरिहरगंज प्रखंड सह अंचल कार्यालय में बुधवार को केंद्र व राज्य सरकार के निर्देश पर एनएच 98 फोरलेन प्रोजेक्ट के प्रभावितों को मुआवजा भुगतान के लिए आयोजित शिविर का रैयत किसानों ने बहिष्कार किया। इस शिविर में भू-अर्जन टीम में अपर समाहर्ता सुरजीत कुमार सिंह, भू-अर्जन पदाधिकारी अमित कुमार, प्रभारी सीओ मोदस्सर नजर मंसूरी कानूनगो गोपाल सिंह, जिला भू-अर्जन के नाजिर संजय पासवान, अमीन देवेंद्र तिवारी, नसीम अहमद, बालेश्वर सिंह, चंदन कुमार, आपरेटर नीरज कुमार के अलावा हरिहरगंज अंचल के सीआई प्रगति प्रकाश, राजस्व उपनिरीक्षक अनिल कुमार रजक आदि मौजूद थे। शिविर में सभी कागजातों के साथ हरिहरगंज प्रखंड के सुल्तानी, कौवाखोह, ढाबखुर्द, सेमरबार, चंदा, जहाना, भगत तेंदुआ, रक्सेल तेंदुआ, रामपुर और पिपरा के धूसरुआ, भितिहा, बैजुआ, मड़वा आदि कई मौजा के प्रभावित रैयतों ने हंगामा शुरू कर दिया। सरकारी स्तर पर जमीन की कम मूल्य के साथ मुआवजा मिलने की जानकारी रैयतों को मिली तो किसान आक्रोशित होकर भड़क गए। एनएच 98 रैयत किसान संघर्ष समिति के सचिव भोला कुमार, मनीष कुमार सिंह, अरविद सिंह, लव कुमार सिंह, अर्जुन गुप्ता, गौतम प्रताप, कमिश्नर सिंह, विजय पासवान, पार्वती कुंवर, दुलारी देवी राजेश राम आदि दर्जनों रैयतों ने शिविर का बहिष्कार कर दिया। साथ ही प्रभावित रैयतों ने बाजार रेट से जमीन की मुआवजा देने की गुहार लगाई। किसानों ने कहा कि विकास के विरोधी नहीं हैं। किसानों का शोषण बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। अगर किसानों को उचित मुआवजा नहीं मिला तो प्रभावित किसान न्याय के लिए न्यायालय के शरण में भी जाएंगे।

Edited By: Jagran