लीड---------

लाकडाउन में छूट मिलते ही बाजारों में उड़ी नियमों की धजिज्यां, बढ़ सकता है खतरा

फोटो : 03 डालपी 18 व 21 संवाद सहयोगी, मेदिनीनगर (पलामू) : स्वास्थ्य सुरक्षा सप्ताह के तहत पाबंदियों में छूट मिलते ही गुरूवार से शहर की तमाम दुकानें खुल गईं। छूट मिलने के बाद कपड़ा, जूता-चप्प, जेवर व श्रृंगार की दुकानें भी खुल गई। बाजार में लंबे समय का बाद पूरी तरह खुला। इससे बाजार की रौनक भी बढ़ी। स्वास्थ्य सुरक्षा सप्ताह के दौरान जारी लाकडाउन के कारण करीब 41 दिनों तक बाजार बंद रहे।

इसके साथ ही अधिकांश लोग कोरोना से बचाव के गाइडलाइन का उल्लंघन करते नजर आए। किसी ने भी शारीरिक दूरी का पालन नहीं किया। लाकडाउन के दौरान घरों में सिमटे लोग अनलाक होते ही बाहर निकलने लगे हैं। सुबह में सभी दुकानदार अपनी दुकानों की सफाई करते दिखे। मालूम हो कि राज्य में अनलाक वन के तहत मूवमेंट के लिए ई-पास की अनिवार्यता को खत्म कर दी है। पहले ई-पास चेकिग व जुर्माना के डर के कारण लोग बाजार नहीं निकलते थे। ई-पास की अनिवार्यता खत्म होने का असर सड़कों पर दिखा। सड़कों पर अचानक से वाहनों की भीड़ बढ़ गई। इधर स्वर्णकार अरविद कुमार ने बताया कि दुकान खुल गई। बावजूद अपेक्षाकृत ग्राहक नहीं दिखे। लगन का अधिकांश समय समाप्त हो गया। इस लिए जेवर की बिक्री मंद रहेगी। पांकी प्रखंड के रन्ने गांव निवासी रेडीमेड वस्त्र बिक्रेता ज्याउल्लाह खां उर्फ छोटू ने बताया कि अधिकांश दुकानें खोलने का निर्देश दिया गया है तो सरकार समय भी बढ़ाए। इससे बाजार में भीड़ स्वत: कम हो जाएगी। अभी तो ग्रामीण व शहर के लोग एक साथ बाजार पहुंचने लगे हैं। कारण दो बजे तक ही दुकानें खुली रखने की बाध्यता है।

Edited By: Jagran