पलामू, जेएनएन। झारखंड के पलामू जिले के चैनपुर प्रखंड क्षेत्र अंतर्गत लिधकी गांव के बैना टोला में मंगलवार की रात पंचायत के दौरान सुरेंद्र चौरसिया नामक 40 वर्षीय व्यक्ति की लाठी से पीट-पीट कर हत्या कर दी गई। पुलिस मामले की जांच-पड़ताल कर रही है।

जानकारी के मुताबिक, सुरेंद्र के भाई राधेश्याम व निर्मल ने बताया कि उनकी सगी चाची कैलसिया देवी की मृत्यु एक सप्ताह पूर्व हुई थी। दाह संस्कार के बाद परंपरानुसार गांव में ही तालाब के पास स्थित पीपल के पेड़ में उनका अस्थि घंट (मिट्टी का घड़ा) टांगा गया था। एक दिन पूर्व उस घंट को किसी ने फोड़ दिया था। मृतका के परिजन इसके लिए सुरेंद्र चौरसिया को दोषी मान रहे थे। इसे लेकर मंगलवार की रात करीब 8 बजे सुरेंद्र के घर के सामने पंचायत हो रही थी। पंचायत के दौरान लोग उग्र हो गए और लाठी डंडे से सुरेंद्र चौरसिया कि पिटाई शुरू कर दी। इसी क्रम में उसने दम तोड़ दिया। सूचना पाकर बुधवार की सुबह चैनपुर पुलिस मौके पर पहुंची। शव को कब्जे में लेकर सदर अस्पताल में पोस्टमार्टम कराया। इसके बाद शव परिजन को सौंप दिया।

इधर, मृतक के पुत्र अनिल चौरसिया ने चैनपुर थाना में 10 लोगों के खिलाफ नामजद प्राथमिकी दर्ज कराई है। इसमें मृतक के चाचा गुप्तेश्वर चौरसिया, भाई अवधेश प्रसाद, बिंदोल चौरसिया, बीरबल चौरसिया, बिंदा चौरसिया व भतीजे प्रमोद चौरसिया, सत्येंद्र चौरसिया, अखिलेश्वर चौरसिया और रविसन चौरसिया का नाम शामिल है। इधर, पोस्टमार्टम के बाद शव घर पहुंचने पर परिजन का रो-रो कर बुरा हाल था। शव के पास महिलाएं दहाड़ मार कर रो रही थी।

सूचना पर चैनपुर उतरी के जिला परिषद सदस्य विकास कुमार चौरसिया ने मृतक के घर पहुंचकर परिजनों को ढांढस बंधाया। इधर कुछ लोग मृतक सुरेंद्र की मानसिक स्थिति ठीक नहीं होने की बात कह रहे थे। चैनपुर थाने के सब इंस्पेक्टर अनिरुद्ध प्रसाद ने बताया कि मामला दर्ज कर लिया गया है। शीघ्र ही आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया जाएगा। 

Posted By: Sachin Mishra