मेदिनीनगर :  पलामू में निर्वाध विद्युत आपूर्ति नहीं होने से लोग परेशान हैं। ग्रामीण एवं शहरी क्षेत्रों में बिजली आपूर्ति का हाल खराब है। लोगों के पंखा व बल्ब नहीं जल पा रहे हैं। शहरी क्षेत्रों में 14 से ही बिजली मिल रही है। कई क्षेत्रों में लोड शे¨डग कर बिजली आपूर्ति की जा रही है। ग्रामीण क्षेत्रों का हाल बेहाल है। जानकारी के अनुसार कई क्षेत्रों में विद्युत आपूर्ति ट्रांसफार्मर व पोल-तार मरम्मत के नाम पर बंद है। पलामू में निर्वाध विद्युत आपूर्ति के लिए 55 से 60 मेगावाट बिजली की जरूरत है। इन दिनों पलामू में महज 30 से 35 मेगावाट बिजली मिल रही है। इसमें भी सबसे बुरा हाल पिकआवर में होता है। लोड बढ़ने के कारण बिजली की खपत बढ़ जाती है। ऐसी स्थिति में लोड शे¨डग कर विभिन्न क्षेत्रों में बिजली की आपूर्ति की जाती है। इधर ग्रामीण क्षेत्रों में भी लोड शे¨डग कर बिजली की आपूर्ति की जाती है। ग्रामीण क्षेत्रों में खराबी आने के बाद मरम्मत कार्य शीघ्र नहीं हो पा रहा है। इससे क्षेत्र में कई दिनों तक बिजली आपूर्ति बंद रह रही है। चैनपुर क्षेत्र में 8 से 10 घंटे ही बिजली मात्र मिल रही है। बीमोड़

से सेमरा सब स्टेशन को बिजली लगातार नहीं मिल रही है। इस कारण इस क्षेत्र में बिजली की समस्या बनी हुई है। बिजली की कमी को लेकर 2 दिन पूर्व चैनपुर क्षेत्र के सैकड़ों लोगों ने स्थानीय जीएम कार्यालय का घेराव भी किया था। बावजूद अभी तक चैनपुर क्षेत्र के बिजली में कोई सुधार नहीं हुआ। पलामू को लहलहे  नेशनल ग्रिड से जुड़ने के बाद लोगों में आस जगी थी कि यह विद्युत आपूर्ति 24 घंटे होगी। बावजूद पहले की भांति निर्धारित मेगावाट पलामू को मिल रही है। कोट::::::

पिक आवर में बिजली की खपत अधिक होने के कारण लोड शे¨डग की जाती है। बाकी समय में बिजली आपूर्ति सामान्य रहती है।

एससी मिश्र, कार्यपालक अभियंता,बिजली विभाग ।

Posted By: Jagran