पाकुड़िया (पाकुड़) : पाकुड़िया प्रखंड मुख्यालय से दक्षिण की ओर करीब साढ़े तीन किलोमीटर दूर स्थित जुगुड़िया मुस्लिम टोला गांव है। यह गांव तिरपतिया नदी के तट पर बसा है। गांव में कुल 115 घर है। आबादी करीब 500 है। गांव के लोग नियमित बिजली नहीं मिलने और सड़क की बदहाली की कहानी कह रही है। मतदान करने के लिए ग्रामीणों में उत्साह भी देखा जा रहा है। लेकिन जनप्रतिनिधियों के प्रति ग्रामीणों आक्रोशित हैं।

गांव का हाल और वोटरों का मिजाज टटोलने के लिए रविवार को जुगुड़िया मुस्लिम टोला पहुंचे। प्रवेश करते ही देखा कि एक किसान ट्रैक्टर में धान लोड कर आ रहा है। रुकने का इशारा किया। ट्रैक्टर के रुकते ही वहां मानू बीबी पहुंचती है। सरकार को कोसती है। कहा कि उनके पास न तो लाल कार्ड है और न वृद्धावस्था पेंशन योजना का लाभ ही मिल रहा है। मानू को प्रधानमंत्री आवास योजना का लाभ मिला है। परंतु बिचौलिया ने पीएम आवास के निर्माण में गुणवत्ता का ध्यान नहीं रखा। कहा कि उनके घर में शौचालय नहीं है। बिजली कनेक्शन भी नहीं है। लालटेन युग में जी रही है। आगे बढ़ने पर नाफिल मियां से मुलाकात होती है। उनसे गांव का हाल जानने का प्रयास किया गया। बोले विकास की क्या बात करें साहब.

यहां न तो बिजली है और न सड़क। जनप्रतिनिधियों ने सड़क पक्कीकरण का वादा किया था, सो आजतक नहीं पूरा नहीं हुआ। उन्होंने बताया कि लाल कार्ड, गैस कनेक्शन मिला है, परंतु पीएम आवास योजना का लाभ नहीं मिल पाया है। सरकारी स्कूल के निकट पहुंचते ही फुटनी बीबी से मुलाकात होती है। उन्होंने बताया कि उन्हें पीएम आवास योजना का लाभ नहीं मिल पाया है। शौचालय बेकार पड़ा है। मेहरना बीबी कहती है कि उन्हें पेंशन मिल रही है। गैस कनेक्शन भी मिला है। लेकिन पीएम आवास नहीं मिला है। गांव के ही बिलात हुसैन ने बताया कि उन्हें सरकारी योजनाओं का लाभ नहीं मिल पाया है। गांव से ही बीडीओ से संपर्क किया गया। बीडीओ ने कहा कि आचार संहिता समाप्त होने के बाद सभी समस्याओं पर संज्ञान लिया जाएगा।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस