पाकुड़: दीपावली त्योहार पर मिट्टी के दीया, मूर्ति व बर्तनों को प्रोत्साहन देने व विदेशी लाइटों व लड़ी का चलन कम करने हेतु एक नई पहल की जा रही है। इस दीपावली में कुंभकारों (कुम्हारों) को स्वनिर्मित दीये या मिट्टी की अन्य सामान बेचने में कोई दिक्कत न हो इसके लिए एक पहल संस्था की ओर से शहर के दो स्थानों पर हाटपाड़ा स्थित बजरंगवली मंदिर के समीप एवं दूसरा हरिणडांगा बाजार स्थित सछ्वावना केंद्र, दुर्गापूजा समिति रेलवे फाटक के समीप पंडाल लगाया जाएगा। ताकि इस पंडाल के नीचे एक जगह बैठकर मिट्टी दीया व मूर्ति आदि बेची जा सकें। एक पहल के अध्यक्ष गुंजन साहा व सचिव नीरज कुमार मिश्रा ने बताया कि संस्था ने यह निर्णय लिया है कि इन सभी कुंभकारों को एक स्थान एवं छत मुहैया करवाकर शांतिपूर्वक अपने सामान बेच सकें। ताकि इन गरीब के घर भी दीवाली मनाया जा सके । इस बावत संस्था ने एक आवेदन पत्र कार्यपालक पदाधिकारी नगर परिषद को सौंपा। उक्त आवेदन पत्र के माध्यम से संस्था ने नप कार्यपालक पदाधिकारी आग्रह किया है कि दीपावली के समय जितने भी कुम्हार व कुम्भकार मिट्टी के दीये सामान बेचने आते हैं'उनसे किसी तरह का शुल्क (टैक्स) न लिया जाय।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप