जागरण संवाददाता, पाकुड़: करीब डेढ़ साल पहले धीनगांव के हिदुस्तान इंस्टीच्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी में बीटेक के छात्र अमड़ापाड़ा के पप्पू कुमार की हुई मौत के मामले में अब नया मोड़ आ गया है। विसरा जांच रिपोर्ट के बाद मुलाना पुलिस ने हत्या का केस दर्जकर मामले की नई सिरे से जांच शुरू कर दी है। पप्पू की मौत की वजह पेट में एल्मूनियम फास्फाइड की मात्रा होना है। जहर उसके पेट तक कैसे गया, इसकी छानबीन शुरू की गई है। इधर पप्पू के पिता टुनटुन ने बताया कि बिसरा रिपोर्ट की जानकारी उन्हें नहीं मिली है। उन्होंने मामले की जांच के लिए कई वरीय अधिकारी से गुहार लगाई थी। पप्पू की पत्नी रामवती देवी और मां लक्ष्मी देवी ने कहा कि पुलिस पप्पू के हत्यारे का पता लगाकर उसे कठोर सजा दिलाए। पप्पु के पिता पीएचईडी के कर्मी हैं।

जानकारी के अनुसार 17 मार्च, 2018 को धीनगांव के हिदुस्तान इंस्टीच्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी में बीटेक की पढ़ाई कर रहे पप्पू को अंबाला के एमएम अस्पताल में गंभीर हालत में भर्ती कराया गया था। वहां पर डॉक्टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया था। उस समय पप्पू के दोस्तों ने पुलिस को बताया था कि 16 मार्च, 2018 को पप्पू और उसके दोस्त ने एक दुकान से समोसा और गुलाब जामुन खाया। रात में तबीयत बिगड़ गई। सुबह उसे एक डॉक्टर के पास ले जाया गया। बाद में उसे एमएम अस्पताल पहुंचाया गया। जहां उसे मृत घोषित कर दिया गया। मामले में पुलिस ने इत्तेफाकिया मौत की कार्रवाई की थी। पुलिस ने शव का पोस्टमार्टम कराकर परिवार के सदस्यों को सौंप दिया था। विसरा जांच के लिए लैब में भेज दिया गया। उसकी अब जांच रिपोर्ट मिलने के बाद हत्या का मामला दर्ज किया गया है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप