महेशपुर (पाकुड़) : प्रखंड मुख्यालय स्थित आंबेदकर चौक के पास शराब दुकान खोलने के विरोध में ग्रामीणों ने शुक्रवार को सड़क जाम कर दिया। इससे महेशपुर-पाकुड़िया पथ पर करीब चार घंटे तक आवागमन बाधित रहा। आंदोलन में काफी संख्या में महिलाएं शामिल थीं। अंचलाधिकारी रितेश जयसवाल, थाना प्रभारी रत्नेश कुमार मिश्रा जाम स्थल पर पहुंच लोगों को समझाने का प्रयास किया, लेकिन लोग अपनी मांग पर अड़े रहे। प्रशिक्षु पुअनि देवानंद प्रसाद, सहायक अवर निरीक्षक लक्ष्मण राय भी दलबल के साथ आंबेदकर चौक पहुंचे। आक्रोशित महिलाओं ने करीब एक घंटे तक थाना प्रभारी को भी घेरकर रखी।

बता दें कि आंबेदकर चौक के समीप विजय भगत के मकान में नई शराब की दुकान खोला जा रहा था। शुक्रवार की सुबह पिकअप वैन जेएच 16सी-2177 से शराब और बीयर उतार कर दुकान में रखा जा रहा था। दुकान खुलने की सूचना पर महिलाएं आक्रोशित हो गई। महिलाओं ने विरोध-प्रदर्शन शुरू कर दी। महिलाओं को आक्रोशित होता देख मकान मालिक भी तैश में आ गए। मकान मालिक विजय ने कहा कि उनके मकान से शराब दुकान कोई नहीं हटा सकता है। मकान मालिक की बात सुन महिलाएं और भी उग्र हो गई। महिलाएं व ग्रामीणों ने मिलकर पाकुड़िया-महेशपुर पथ को जाम कर दिया। दुकान से शराब निकालने की मांग करने लगे। आंदोलनकारियों ने कहा कि जबतक दुकान से शराब बाहर नहीं निकाला जाएगा तबतक आंदोलन जारी रहेगा। इधर महिलाओं को उग्र होता देख थाना प्रभारी ने मकान मालिक को बुलाकर 12 बजे तक दुकान खाली करने की चेतावनी दी। इसके बाद भी आंदोलनकारी तत्काल दुकान खाली करने की मांग पर अड़े रहे। आंदोलनकारियों ने पुन: दो घंटे तक सड़क जाम कर दिया। अंचलाधिकारी जाम स्थल पर पहुंच महिलाओं व ग्रामीणों को समझाने का प्रयास किया। सीओ ने महिलाओं को आश्वासन दिया कि तीन दिनों के अंदर दुकान खाली कर दिया जाएगा। यहां दुकान नहीं खुलेगी। सीओ के आश्वासन के बाद महिलाओं व ग्रामीणों ने जाम हटाया।

Posted By: Jagran