लिट्टीपाड़ा (पाकुड़) : थाना क्षेत्र के डूमरभीटा गांव में घरेलू विवाद में रावते पहाड़िया की हत्या में पुलिस ने छोटा भाई काबरा पहाड़िया को जेल भेज दिया है। काबरा का अपराधिक इतिहास रहा है। इसके पूर्व भी वह हत्या मामले में ही जेल जा चुका है। इलाके में काबरा को लेकर दहशत का माहौल था। बात-बात में काबरा ग्रामीणों से उलझ पड़ता था। इससे ग्रामीण काफी परेशान थे। काबरा के जेल जाने के बाद ग्रामीणों ने राहत की सांस ली है।

आरोपित काबरा ने मामूली विवाद में वर्ष 2018 में राकसो गांव के भीमा पहाड़िया की हत्या कर दी थी। इसके बाद वह जेल चला गया था। तीन वर्ष तक जेल में रहने के बाद काबरा विगत वर्ष 2019 के नवंबर माह में जेल से रिहा हुआ। ग्रामीणों ने बताया कि जिस समय काबरा जेल में बंद था उस समय उनके बड़े भाई रावते का उसके परिवार के साथ अंदरूनी मामला चल रहा था। जेल से निकलने के बाद काबरा को सबकुछ पता चल गया। गांव में पंचायती हुई। पंचायत में रावते को माफ कर दिया गया। हालांकि काबरा के अंदर बदले की भावना आग की तरह धधक रही थी। यही कारण है कि बीते रविवार की शाम मामूली विवाद में काबरा ने अपने बड़े भाई रावते को कुल्हाड़ी से काटकर हत्या कर दी। ग्रामीण काबरा से काफी खपा थे। जिस कारण घटना के बाद काबरा को ग्रामीणों ने पकड़कर बंधक बना लिया। पुलिस को सूचना दी गई। पुलिस ने काबरा को कब्जे में लेकर थाना ले गई। पुलिस के अनुसार काबरा ने अपनी गुनाह स्वीकार कर लिया है। उसे सोमवार को जेल भेज दिया गया। थाना प्रभारी प्रेमचंद भगत ने बताया कि शराब के नशे में हत्या की गई है। आरोपित को गिरफ्तार कर लिया गया है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस