पाकुड़ : सेवा स्थाई करने की मांग को लेकर झारखंड अनुबंधित पारा चिकित्साकर्मी संघ ने आंदोलन तेज कर दिया है। सभी अनुबंधकर्मी बुधवार से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले गए। इससे स्वास्थ्य व्यवस्था पर असर देखने को मिला। इसके पूर्व संघ ने चार अगस्त को सांकेतिक हड़ताल कर सेवा स्थाई करने की मांग रखी थी। मांग पर विचार नहीं होने के कारण अनुबंधकर्मियों ने अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले जाने की चेतावनी दी थी।

संघ के अध्यक्ष आलोक नोएल टुडू व सचिव नागेश्वर प्रसाद के नेतृत्व में बुधवार को सदर अस्पताल में जुलूस निकालकर विरोध जताया। सरकार के खिलाफ नारेबाजी की। पदाधिकारियों ने कहा कि चार अगस्त को सांकेतिक हड़ताल कर सरकार को चेतावनी दी गई थी, लेकिन सरकार ने कोई पहल नहीं की। बाध्य होकर सभी अनुबंधकर्मी अनिश्चिकालीन हड़ताल पर चले गए। दोनों पदाधिकारियों ने कहा कि अनुबंधकर्मियों को हमेशा आश्वासन की घुट्टी पिलाई जाती है। कोरोना काल में भी सभी अनुबंधकर्मी घर-परिवार छोड़कर ड्यूटी में लगे रहे। इसके बाद भी सरकार की नींद नहीं खुली। इस बार संघ सरकार के झूठे आश्वासन पर आंदोलन समाप्त नहीं करेगी। इस बार आरपार की लड़ाई लड़ी जाएगी। इस मौके पर डॉ. सरफराज, डॉ. सुपर्णा साहा, रोसा तिग्गा, शांतिशीला सोरेन, कुमकुम पाल, उर्मिला सुरीन सहित अन्य शामिल थे।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस