पाकुड़ : मुफस्सिल थाना क्षेत्र के इशाकपुर गांव स्थित तालाब में डूबने से इशाकपुर पंचायत के मुखिया हाबुल पहाड़िया की मौत हो गई। घटना रविवार की शाम की है। बुधवार की सुबह मुखिया का शव तालाब में उपलता हुआ देखा गया। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। मुखिया हाबुल रविवार की रात से ही गायब था। परिजनों ने काफी खोजबीन की परंतु पता नहीं चल पाया था।

मुखिया की पत्नी मिनोती पहाड़िन ने बताया कि रविवार की देर शाम दोनों तालाब में नहाने गए थे। हाबुल ने अपनी पत्नी से कहा कि तुम घर चली जाओ हम कुछ स्नान कर आते हैं। पत्नी मिनोती घर चली गई। इसी बीच स्नान करने के क्रम में वह तालाब में डूब गया। देर रात तक जब मुखिया घर वापस नहीं लौटा तो परिजनों ने खोजबीन शुरू की। खोजबीन के क्रम में मुखिया का पता नहीं चल पाया। घटना के दो दिन बाद यानि बुधवार की सुबह कुछ ग्रामीणों ने देखा कि तालाब में किसी का शव उपला गया है। ग्रामीणों ने इसकी सूचना गांव के अन्य लोगों को दी। पुलिस को भी सूचना दी गई। पुलिस व मुखिया के परिजन घटना स्थल पर पहुंचे। पुलिस ने परिजनों से घटना की पूरी जानकारी ली। शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। थाना प्रभारी अमित कुमार तिवारी ने बताया कि मुखिया के तालाब में डूबने से मौत हुई है। हत्या का कोई मामला नहीं है। पुलिस ने पोस्टमार्टम कराने के बाद शव को परिजनों को सौंप दिया।

आठ बच्चों को छोड़ गए मुखिया

मुखिया हाबुल शेख की मौत के बाद परिवार में मातम छा गया। वह अपने पीछे पत्नी मिनोती के अलावा छह बेटा और दो बेटी को छोड़ गए। पिता की मौत की खबर सुनते ही बच्चे बिलख पड़े। पत्नी का रो-रोकर बुरा हाल हो गया। पत्नी दहाड़-दहाड़ कर रो रही थी। कह रही थी कि परिवार का भरण-पोषण कौन करेगा।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस