पाकुड़ : मध्याह्न भोजन योजना व समग्र शिक्षा अभियान का संयुक्त तत्वावधान में स्थानीय राजकीय मध्य विद्यालय धनुषपूजा में शुक्रवार को जिला स्तरीय समाजिक अंकेक्षण के तहत जनसुनवाई आयोजन किया गया। उद्घाटन जिला शिक्षा पदाधिकारी रजनी देवी, जिप उपाध्यक्ष मुकेश शुक्ला, डीएसई दुर्गा नंद झा, स्टेट रिसोर्स पर्सन साहेब यादव ने े किया। जिला स्तरीय जनसुनवाई में एमडीएम, अभिलेख, स्कूलों में एमडीएम बंद, पंजी संधारण नही होना, रसोईया का मानदेय, संबंधित मामले आए।

प्रखंड स्तर पर कुल 49 स्कूलों का समाजिक अंकेक्षण किया गया था। इसमें एमडीएम के 200 व समग्र शिक्षा अभियान के 155 मामले आए थे। जिला स्तरीय जनसुनवाई में एमडीएम के 66 व समग्र शिक्षा के 48 मामले आए। इसमें राजकीय बुनियादी विद्यालय अमड़ापाड़ा अंकेक्षण के दौरान 16 फरवरी को पाया गया था कि 12 बच्चों को एमडीएम नहीं दिया गया था। साथ ही उक्त विद्यालय के प्रधान शिक्षिका सुधा कुमारी व संयोजिका ने एमडीएम से संबंधित कोई अभिलेख नही दिखाया था। मनमानी तरीके से स्कूल में एमडीएम का संचालन होता है। ज्यूरी जिप उपाध्यक्ष मुकेश शुक्ला, डीएसई ने बीईईओ अमड़ापाड़ा को उक्त बुनियादी विद्यालय अमड़ापाड़ा के सचिव सुधा कुमारी को एमडीएम कार्य से मुक्त व संयोजिका को हटाने का निर्देश दिया गया। वहीं सदर प्रखंड के उत्क्रमित मध्य विद्यालय सीतापहाड़ी में अंकेक्षण टीम ने अंकेक्षण के दौरान एमडीएम की राशि में गड़बड़ी पकड़ी थी। एसएमसी अध्यक्ष ने एमडीएम गड़बड़ी का 05 लाख रुपये जमा करा दिया है। शेष राशि बीईईओ को शीघ्र जमा कराने का निर्देश दिया गया। राशि जमा नही करने पर अध्यक्ष पर प्राथमिकी दर्ज करने का निर्देश दिया गया। जनसुनवाई में जिले के तकरीबन 25 विद्यालयों ने साक्ष्य प्रस्तुत नही किए। वैसे स्कूलों के प्रधान शिक्षकों को पांच दिन के भीतर बीआरसी में बीईईओ के समक्ष साक्ष्य प्रस्तुत करने के लिए कहा गया। पांच दिन के अंदर साक्ष्य प्रस्तुत नही किए जाने पर राज्य स्तरीय जनसुनवाई में मामला को रखा जाएगा। इस मौके पर डीआरपी अनंत कुमार मंडल, शंकर कुमार, बीईईओ रामनरेश राम, सभी प्रखंडों के बीईईओ आदि मौजूद थे।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप