जागरण संवाददाता, लोहरदगा : कोविड-19 संक्रमण के बढ़ते प्रभाव के बीच स्वास्थ्य विभाग भी अब अलर्ट हो चुका है। लोहरदगा में स्वास्थ्य विभाग ने संक्रमित लोगों की वास्तविक स्थिति का पता लगाने, लक्षणों के बीच जांच रिपोर्ट और परिस्थितियों को लेकर रैपिड एंटीजन टेस्ट किट और ट्रू-नेट के बजाय आरटीपीसीआर के माध्यम से जांच पर फोकस किया है। टीकाकरण में भी तेजी आ चुकी है। औसतन हर दिन चार हजार लोगों का प्रतिदिन टीकाकरण हो रहा है। कोविड-19 के जिला नोडल पदाधिकारी प्रभारी, प्रभारी सिविल सर्जन और सदर अस्पताल उपाधीक्षक डॉक्टर शंभू नाथ चौधरी ने स्पष्ट किया है कि कोविड-19 की जांच को लेकर कोई भी कमी नहीं की जा रही है। सोमवार से अब आरटीपीसीआर के माध्यम से ज्यादा जांच पर जोर दिया जाएगा। हालांकि स्वास्थ्य विभाग की ओर से शनिवार तक रैपिड एंटीजन टेस्ट किट के माध्यम से ही ज्यादा जांच हुई थी। शनिवार को कुल 371 लोगों की जांच रैपिड एंटीजन टेस्ट किट के माध्यम से किया गया था। जबकि ट्रू-नेट के माध्यम से मात्र दो लोगों की जांच हुई थी। वहीं आरटीपीसीआर के माध्यम से 84 लोगों की जांच की गई थी। जिले में स्वास्थ्य विभाग द्वारा अब तक 249549 लोगों का सैंपल कोविड-19 की जांच को लेकर लिया गया है। जिसमें से 245418 लोगों के सैंपल की जांच हुई है। जांच में अब तक 6716 लोग कोविड-19 से संक्रमित पाए गए हैं। हालांकि जिले में अब तक 6622 लोग कोविड-19 से संक्रमित होने के बाद स्वस्थ होकर अपने घर लौट चुके हैं। जिले में कोविड-19 की वजह से अब तक 88 लोगों की मौत हो चुकी है। वहीं संक्रमित एक व्यक्ति की दूसरे कारण से मौत हुई है। जबकि वर्तमान समय में जिले में कोविड-19 के सक्रिय मामलों की संख्या पांच है। आरटीपीसीआर के माध्यम से जांच पर फोकस किए जाने की वजह साफ है कि स्वास्थ्य विभाग बिल्कुल अच्छी तरह से यह पुष्टि करना चाहता है कि संक्रमित व्यक्ति में वर्तमान समय में किस प्रकार के लक्षण सामने आ रहे हैं। उन लक्षणों के माध्यम से आरटीपीसीआर रिपोर्ट में संक्रमण की पुष्टि होती है या नही। हालांकि तमाम परिस्थितियों से निपटने को लेकर सभी प्रकार के जांच के लिए लोहरदगा स्वास्थ्य विभाग तैयार है। लोहरदगा जिले के सदर प्रखंड और शहरी क्षेत्र में अब तक 3988 लोग, भंडरा प्रखंड में 442 लोग, सेन्हा प्रखंड में 883 लोग, किस्को प्रखंड में 629 लोग, वहीं कुडू प्रखंड में 774 लोग संक्रमित पाए जा चुके हैं। लोहरदगा में एचसीडब्ल्यू और एफएलडब्ल्यू दूसरा डोज लेने में हैं पीछे

लोहरदगा : लोहरदगा जिले में टीकाकरण को लेकर काफी ज्यादा तेजी आ चुकी है। हालांकि एक आंकड़ा चौंकाने वाला यह भी है कि लोहरदगा जिले में हेल्थ केयर वर्कर्स और फ्रंटलाइन वर्कर्स में से काफी लोग दूसरा डोज लेने में पीछे हैं। हालांकि इसके पीछे स्वास्थ्य विभाग का यह भी तर्क है कि ऐसे लोगों का दूसरा डोज नहीं लेने की वजह उनका स्वास्थ्य है। कई लोगों ने स्वास्थ्य कारणों से दूरा डोज नहीं लिया। जिले में हेल्थ केयर वर्कर्स में से 2787 लोगों ने पहला डोज और 1856 लोगों ने दूसरा डोज लिया है। जबकि फ्रंटलाइन वर्कर्स में से 4986 लोगों ने पहला डोज और 2962 लोगों ने दूसरा डोज लिया है। इस प्रकार से हेल्थ केयर वर्कर्स और फ्रंटलाइन वर्कर्स में से काफी लोगों ने दूसरा डोज नहीं लिया है।

Edited By: Jagran