भंडरा (लोहरदगा) : प्रखंड के भंडरा गांव स्थित सोकरा तालाब जीर्णोंद्धार कार्य बरती जा रही अनियमितता के खिलाफ गांव के रैयत भूमि लाभुकों ने सोमवार को उपायुक्त से मिलकर तालाब जीर्णोंद्धार कार्य में बरती जा रही अनियमिता की जांच करने की मांग की। लाभुकों ने उपायुक्त को बताया कि भूमि संरक्षण विभाग के मिलीभगत से फर्जी रूप से ग्राम सभा कर पानी पंचायत का गठन कर दिया गया। जबकि तालाब के नजदीक सभी लाभुकों को दरकिनार कर दिया गया है। विभाग के नियम के अनुसार पानी पंचायत में वैसे 21 लाभुकों का चयन किया जाना होता है। जिसका भूमि तालाब के निकट होता है। उपायुक्त ने इस मामले को गंभीरता से लेते हुए कहा कि नियम को ताक में रख कर किसी भी कार्य करने का अधिकार नही है। उपायुक्त ने भूमि संरक्षण विभाग के पदाधिकारी को बुलाकर सकरा तालाब निर्माण कार्य के लिए नए सिरे से पानी पंचायत का गठन करने का आदेश दिया। मौके पर पूर्व उप-प्रमुख ईश्वरी मोहन शर्मा, प्रदीप ¨सह, रामजीत उरांव, देवेंद्र साहु, नंद कुमार साहु, खुदी महतो, नसीम अंसारी, भाजपा ओबीसी मोर्चा के जिलाध्यक्ष कैलाश साहु, प्रखंड 20 सूत्री अध्यक्ष किशोर साहु आदि मौजूद थे ।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस